इस्लामाबाद, रायटर्स। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक ताजा बयान में कहा कि जब तक कर्फ्यू नहीं हटा लिया जाता तब तक कश्मीर को लेकर भारत के साथ द्विपक्षीय वार्ता का कोई मतलब नहीं है। हालांकि, यहां गौर देने वाली तो यह है कि भारत की तरफ से साफ कर दिया गया है कि जम्मू-कश्मीर से Article 370 को हटाना उसका आतंरिक मामला है।... और वह अब सिर्फ और सिर्फ POK (जिस कश्मीर पर पाकिस्तान ने कब्जा कर रखा है) पर बात करेगा। तो पाक पीएम का कश्मीर पर यह बयान बुनियाद है। 

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के किसी भी हिस्से में कर्फ्यू लागू नहीं है। पाकिस्तानी पीएम जम्मू-कश्मीर पर एक प्रॉपगैंडा चला रहे हैं।

भारत सरकार द्वारा अगस्त में 370 को जम्मू-कश्मीर से हटा दिया गया था। वो दिन था और एक आज का दिन है कि पाकिस्तान अब तक इसे अपने गले से नीचे नहीं उतर पा रहा है। पाकिस्तान, भारत की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए दुनिया के बड़े-बड़े प्लेटफॉर्म पर अनर्गल आरोप लगा रहा है, लेकिन अभी तक उसे अपने गलत मंसूबों पर जीत नहीं मिल सकी है।

भारत के कश्मीर पर नहीं, गुलाम कश्‍मीर पर होगी बात

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी साफ कर दिया था कि अब पाकिस्‍तान से बातचीत होगी तो सिर्फ वो गुलाम कश्‍मीर पर होगी। उन्‍होंने कहा कि अब पाकिस्‍तान से तभी बातचीत हो सकती है जब वह आतंकवाद का समर्थन करना बंद कर देगा। इसके अलावा भी भारत के तमाम बड़ें नेताओं ने सिर्फ अब POK पर ही बात करने के संकेत दिए है।

POK नहीं संभल रहा इमरान सरकार से

आपको बता दें कि हाल ही में इमरान खान ने POK में एक बड़ा जलसा किया था। इस दौरान उन्हें वहां पर विरोध का सामना करने पड़ा था। उनके खिलाफ नारे लगाए गए थे। इतना ही नहीं गुलाम कश्मीर में लोगों की आवाज को दबाने के लिए युवाओं और छात्रों के खिलाफ FIR तक दर्ज करा दी गई।

विदेश मंत्री ने किया साफ एक दिन POK को लेकर रहेंगे

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को मीडिया कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान जयशंकर ने कहा था, ‘गुलाम कश्‍मीर भारत का हिस्‍सा है। हमें उम्‍मीद है कि एक दिन इस पर हमारा अधिकार हो जाएगा।’

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप