रावलपिंडी, एएनआइ। पाकिस्तान के जब्त किए गए विमान से जुड़े मामले में पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआइए) के अधिकारी 22 जनवरी को ब्रिटेन की कोर्ट में और 24 जनवरी को मलेशिया की कोर्ट में पेश होंगे। यह जानकारी पाकिस्तान के उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने दी है। पट्टे की बकाया रकम न चुकाने के कारण पीआइए के इस विमान को शुक्रवार को मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के हवाई अड्डे पर जब्त कर लिया गया था।

मीडिया से बातचीत में उड्डयन मंत्री ने कहा कि मलेशिया की कोर्ट ने पीआइए का पक्ष सुने बगैर एकतरफा फैसला सुनाया। उन्होंने विमान के पट्टे को लेकर पैदा हुई इस स्थिति के लिए पूर्व की पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज सरकार को जिम्मेदार ठहराया। कहा कि पूर्व सरकार ने ज्यादा रकम में पट्टे पर दो विमान लिए थे। उसका नतीजा मौजूदा सरकार को भुगतना पड़ रहा है। 

विमान के ज्यादातर यात्री पाकिस्तान पहुंचे

देश में कोरोना संक्रमण के चलते पट्टे की बकाया रकम का भुगतान नहीं हो सका, जिसके कारण विमान को कुआलालंपुर में रोक लिया गया। पीआइए ने ट्विटर पर बयान जारी कर कहा है कि उसके विमान के बारे में मलेशिया की कोर्ट ने एकतरफा फैसला सुनाया जबकि उसका मामला ब्रिटिश कोर्ट में पहले से लंबित था। इसके चलते यात्रियों को बेवजह परेशान होना पड़ा। अंतत: उनके लिए वैकल्पिक इंतजाम किए गए और उन्हें मुकाम तक पहुंचाया गया।

ज्यादातर यात्री दुबई होते हुए रविवार को पाकिस्तान पहुंच गए हैं। पीआइए के प्रवक्ता के अनुसार पीआइए के वकील कुआलालंपुर पहुंच गए हैं और मामले से संबंधित दस्तावेज अधिकारियों को दिखाए हैं। जियो न्यूज के अनुसार जब्त हुआ विमान वियतनाम की कंपनी से 2015 में पट्टे पर लिया गया था।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप