इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ विपक्षी दलों को फॉरेन फंडिंग केस बड़े हथियार के रूप में मिल गया है। विपक्षी दलों के संगठन पीडीएम ने अब इस मामले में इमरान खान की घेराबंदी तेज कर दी है। पीडीएम के प्रमुख फजलुर रहमान ने कहा कि पाकिस्तान की राजनीति के इतिहास में यह अब तक का सबसे बड़ा स्कैंडल है।

पीडीएम प्रमुख रहमान ने कहा कि इमरान खान ने विदेशों से मिले करोड़ों रुपयों के फंड का इस्तेमाल देश में राजनीतिक अराजकता और चुनाव में धांधली के लिए किया है। इस मामले की सुनवाई चुनाव आयोग के द्वारा की जा रही है और सत्ता के दबाव में इसको छह साल से लगातार लंबित किया जा रहा है।

2014 में दर्ज किया गया था फॉरेन फंडिंग केस

सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के खिलाफ फॉरेन फंडिंग केस नवंबर 2014 में दर्ज किया गया था। अब इस मामले में पाकिस्तान के चुनाव आयोग को निर्णय लेना है। इस मामले के निर्णय में देरी किए जाने पर पाकिस्तान के ग्यारह विपक्षी दल चुनाव आयोग के सामने प्रदर्शन कर रहे है।

इधर सीनेट (उच्च सदन) के उपाध्यक्ष सलीम मांडवीवाला ने नेशनल एकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (NAB) को सरकार के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि सरकार इस सरकारी एजेंसी के माध्यम से नेताओं पर कीचड़ उछालने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि एक तरफ विपक्षी नेता मीडिया ट्रायल का सामना कर रहे हैं, दूसरी तरफ एनएबी भी चुन-चुन कर इमरान खान के विरोधियों का उत्पीड़न कर रही है। यह एजेंसी इमरान खान की पार्टी पीटीआइ की सहयाक संस्था के रूप में काम कर रही है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप