इस्लामाबाद, प्रेट्र। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की एलओसी पार ना करने की हिदायत को दरकिनार करते हुए आज पीओके(गुलाम कश्मीर) से भारी संख्या में लोग नियंत्रण रेखा(एलओसी) की ओर मार्च कर रहे हैं। पीओके(गुलाम कश्मीर) के लोग जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाएम जाने के विरोध में यह मार्ट निकाल रहे हैं। इससे पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को प्रदर्शनकारियों को एलओसी पार न करने की चेतावनी देते हुए कहा था कि किसी को भी एलओसी पार करके कश्मीरियों की मदद या समर्थन देने के बारे में नहीं सोचना चाहिए, क्योंकि अगर हम ऐसा करेंगे तो भारत इसे पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद कहेगा।

पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक संबंध कम कर किए और भारतीय उच्चायुक्त को भारत भेज दिया।पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने की कोशिश कर रहा है लेकिन भारत के आगे उसे सिर्फ हार मिली है। उसे हर मंच पर भारत की ओर से कश्मीर मसले पर हार मिली है। भारत ने कश्मीर मसले को अपना आंतरिक मामला बताया है। भारत ने पाकिस्तान को वास्तविकता को स्वीकार करने और भारत विरोधी बयानबाजी को रोकने के लिए कहा है  लेकिन पाकिस्तान फिर भी बाज नहीं आ रहा है।

LoC की ओर बढ़ रहे पाकिस्तानी

मार्च करने वाले ज्यादातर युवा, शनिवार को पीओके(गुलाम कश्मीर) की राजधानी मुजफ्फराबाद से गढ़ी दुपट्टा पहुंचे, जहां वे रात भर रहे। फिलहाल वे मुजफ्फराबाद-श्रीनगर राजमार्ग पर आगे बढ़ रहे हैं। ये विरोध मार्च जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) द्वारा आयोजित किया गया है। जेकेएलएफ के एक स्थानीय नेता रफीक डार ने मीडिया को बताया कि भारत और पाकिस्तान के लिए संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षकों के समूह ने भी उनसे संपर्क किया था।

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र से भारत और पाकिस्तान को शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बल प्रयोग नहीं करने के लिए राजी करने का आग्रह किया गया था। प्रदर्शनकारियों ने एलओसी पार करने की घोषणा की है। सूत्रों के मुताबिक, उनके चकोठी पहुंचने की उम्मीद है, जहां उन्हें अधिकारियों द्वारा रोका जाएगा।

कुरैशी ने की अमेरिकी सीनेटर से मुलाकात

इस बीच, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अमेरिकी सीनेटर क्रिस वान होलेन से एलओसी के दोनों किनारों पर जमीनी हालात देखने का आग्रह किया।विदेश कार्यालय ने मध्यरात्रि के बाद जारी बयान में कहा, होलेन ने यूएस चार्ज डी के अफेयर्स एंबेसडर पॉल जोन्स के साथ शनिवार दोपहर को मुल्तान की यात्रा की। कुरैशी ने राज्य के सीनेट विभाग, विदेशी संचालन और संबंधित कार्यक्रम विनियोग विधेयक, 2020 में संशोधन के प्रस्ताव में सीनेटर की नेतृत्व की भूमिका की सराहना की, जो स्पष्ट रूप से कश्मीर में "मानवीय संकट" के बारे में चिंता व्यक्त करता है।

इसे भी पढ़ें: इमरान कर रहे दिखावा, PoK के युवाओं से सीमा पार न जाने को कहा

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान की राजनीति में फिर वापसी कर सकते हैं मुशर्रफ, आज हो सकती है बड़ी घोषणा

इसे भी पढ़ें: पाकिस्‍तान की आर्मी है अरबपति और देश हो रहा कंगाल, एक नजर में जानें पूरा ब्‍यौरा

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप