पेशावर, पीटीआइ। नोबल पुरस्कार से सम्मानित मलाला यूसुफजई को धमकाने और लोगों को उन पर हमला करने के लिए उकसाने के आरोप में उत्तर पश्चिम पाकिस्तान में एक मुफ्ती को आतंकवाद निरोधी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। पाकिस्‍तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक शादी पर मलाला की हालिया टिप्पणी मुफ्ती को काफी नागवार गुजरी जिसके चलते उसने यह कदम उठाया था।

अखबार डॉन ने लक्की मारवत जिला पुलिस दफ्तर के हवाले से बताया है कि पुलिस ने खैबर पख्तूनख्वा के मुफ्ती सरदार अली हक्कानी के घर छापेमारी करके बुधवार को उसे गिरफ्तार कर लिया। एसएचओ (थाना प्रभारी) वसीम सज्जाद की शिकायत पर मुफ्ती के खिलाफ आंतकवाद रोधी कानून तहत एफआइआर दर्ज की गई है। एफआइआर में कहा गया है कि मुफ्ती पेशावर में लोगों को यूसुफजई पर हमला करने के लिए उकसा रहे हैं।

सोशल मीडिया पर मुफ्ती के उकसाने वाले बयान का वीडियो वायरल हो गया है। रिपोर्टों में कहा गया है कि मुफ्ती हथियार से लैस थे। मुफ्ती ने कहा कि जब मलाला पाकिस्तान आएंगी तो मैं उनपर आत्मघाती हमला करने वाला पहला शख्स होउंगा। प्राथमिकी के लिए दी गई शिकायत में कहा गया है कि मुफ्ती के बयान से शांति के लिए खतरा पैदा हो सकता था। मुफ्ती ने अराजकता के लिए लोगों को भड़काया। 

समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक 'वोग' पत्रिका को दिए एक इंटरव्‍यू में 23 वर्षीय यूसुफजई ने कहा था कि उन्हें पक्के तौर पर नहीं पता कि वह कभी शादी करेंगी भी। मलाला ने आगे कहा कि मुझे अब भी समझ में नहीं आता कि लोगों को शादी क्यों करनी पड़ती है। उल्‍लेखनीय है कि पाकिस्तानी कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई के सिर में साल 2012 में गोली मारी गई थी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप