इस्‍लामाबाद, रायटर्स। पाकिस्तान एक अगस्त से बिना कोवि‍ड वैक्सीन प्रमाण पत्र के किसी के लिए भी हवाई यात्रा पर प्रतिबंध लगाएगा और सभी सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों को 31 अगस्त तक टीका लगवाना जरूरी होगा। पाकिस्‍तान सरकार ने गुरुवार को कई अन्य प्रतिबंधों की घोषणा की। 1 अगस्त से बिना टीकाकरण वाले लोगों को सरकारी कार्यालयों, स्कूलों, रेस्तरां, मॉल और खरीदारी में प्रवेश करने के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी।

राष्ट्रीय कमान और संचालन केंद्र (एनसीओसी) के प्रमुख असद उमर, जो सैन्य संचालित निकाय है यह देश में कोविड महामारी की देखरेख करता है ने स्वास्थ्य मंत्री के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि अगस्‍त के अंत तक 18 से ऊपर के शिक्षक व छात्र और खुदरा कर्मचारियों को सार्वजनिक परिवहन में टीकाकरण जरूरी होगा। उसके बिना यात्रा की अनुमति नहीं होगी।

स्‍कूल और कॉलेजों में बिना टीका के पढ़ाने की अनुमति नहीं

पाकिस्तान में कोरोना संक्रमण के डेल्‍टा वैरिएंट के बढ़ते मामलों को देखा जा सकता है। देश के खराब स्वास्थ्य ढांचे पर अत्यधिक दबाव है। एनसीओसी के अनुसार, कोरोना के राष्ट्रीय पॉजिटिविटी टेस्‍ट रेट 7.53 फीसद है। कराची के दक्षिणी बंदरगाह शहर में संक्रमण दर को हाल के हफ्तों में 23 फीसद तक छुआ था। उमर ने कहा कि यदि आपको टीका नहीं लगाया है तो आप एक अगस्‍त से स्कूलों और कॉलेज में में पढ़ाने नहीं जा सकते हैं। हम अपने बच्चों के जीवन को सिर्फ इसलिए जोखिम में नहीं डाल सकते क्योंकि आप वैक्सीन लेने के लिए तैयार नहीं हैं।

पाकिस्‍तान में तेजी से बढ़ रहा टीकाकरण

एनसीओसी ने कहा है कि पाकिस्तान में मई के बाद से कोरोना वायरस के डेल्टा, बीटा, और अल्फा वैरिएंट पाए गए हैं। राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान की सुस्त शुरुआत के बाद सरकार ने अपनी रफ्तार तेज कर दी है विशेष रूप से गढ़ पंजाब में। बुधवार को देश में 850,000 खुराक दी गई।

उमर ने कहा कि आगामी लक्ष्य एक दिन में दस लाख खुराक छूने का है। अब तक 22 करोड़ आबादी में से 2 करोड़ 78 लाख लोगों को कम से कम टीके की एक खुराक लगाई जा चुकी है और 59 लाख लोगों को पूर्ण टीकाकरण किया जा चुकी है। इसने कहा कि पाकिस्तान में 4,497 नए मामले दर्ज किए गए और 76 मौतें हुईं है। पिछले 24 घंटों में, 3,000 से अधिक लोगों की हालत गंभीर है। पाकिस्तान में अब तक कोरोना से अब तक 23,209 लोगों की मौत हो चुकी है

Edited By: Arun Kumar Singh