नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। आतंकवाद को समर्थन देने के मुद्दे पर बार बार अंतरराष्ट्रीय बिरादरी के सामने पाकिस्तान बेनकाब होता रहा है। लेकिन इस बार खुद पीएम इमरान खान के मंत्रिमंडल के एक महत्वपूर्ण मंत्री ने भारत के पुलवामा में आत्मघाती हमला करवाने की जिम्मेदारी ले ली है। कैबिनेट में विज्ञान व तकनीकी मंत्री फवाद चौधरी ने पाकिस्तान के संसद में एक चर्चा के दौरान पुलवामा हमले को इमरान खान सरकार की एक बड़ी उपलब्धि बताई है। भारत पहले से ही यह आरोप लगाता रहा है कि पुलवामा हमला पूरी तरह से पाकिस्तान प्रायोजित था। पाकिस्तान के राजनीतिक परिदृश्य में पिछले दो दिनों से भारत के साथ बालाकोट व पुलवामा से जुडे मुद्दे छाये हुए हैं।

दो दिनों में दो बार हुई इमरान खान सरकार की किरकिरी

विपक्षी पार्टी पीएमएल (एन) की तरफ से भारत के हमले की धमकी के सामने पीएम इमरान खान के घुटने टेकने के आरोप का जवाब देने आये फवाद चौधरी ने कहा है कि, ''हमने हिंदुस्तान को घुस कर मारा है और पुलवामा में जो हमारी जो कामयाबी है, वह इमरान खान के नेतृत्व में पूरे कौम की कामयाबी है। हमारी कामयाबी है, आपकी कामयाबी है।'' अपनी सरकार व पार्टी के बचाव करने में जुटे फवाद चौधरी ने वह बात कह डाली जो भारत सरकार और भारत की प्रमुख जांच एजेंसी एनआइए भी कहती रही है।

चौधरी फरवरी, 2019 में भारत की तरफ से बालाकोट में किये गये हमले और उसके बाद के हालात पर प्रमुख विपक्षी पार्टी पीएमएल (एन) के सांसद सरदार अयाज सादिक ने सीनेट में एक दिन पहले दिये गये बयान पर जवाब देने आये थे। चौधरी का उक्त बयान जब पाकिस्तान समेत भारतीय मीडिया ने भी जोर शोर से उछाला तो देर रात उन्होंने एक ट्विट किया कि, ''उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। वह पुलवामा हमले के बाद के घटनाक्रम के बारे में बात कर रहे थे।''

पिछले दो दिनों में भारत से जुड़े मुद्दे पर इमरान खान सरकार की दो बार किरकिरी हुई है। पीएमएल (एन) के सांसद ने गुरुवार को सादिक ने कहा था कि, ''बालाकोट के बाद बुलाई गई राजनीतिक बैठक में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के पैर कांप रहे थे। कुरैशी ने बताया कि अगर रात नौ बजे तक भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन को नहीं छोड़ा गया तो भारत हमला कर देगा।''

सनद रहे कि भारत ने शुक्रवार को भी आतंकवाद को समर्थन देने के मुद्दे पर पाकिस्तान को लताड़ लगाई है। मंगलवार को भारत व अमेरिका के बीच हुई टू प्लस टू वार्ता में पाकिस्तान से सख्त लहजे में कहा गया था कि वह आतंकवाद को बढ़ावा देने और प्रश्रय देने की नीति को जल्द से जल्द छोड़े और भारत में मुंबई हमले व पुलवामा हमले के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए कदम उठाये। इस पर पाकिस्तान ने बुधवार को सख्त ऐतराज जताया था।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा है कि पूरी दुनिया इस हकीकत को जानती है कि पाकिस्तान ही वह देश है जो आतंकवाद का पोषण करता है। संयुक्त राष्ट्र की तरफ से नामित सबसे ज्यादा आतंकी पाकिस्तान में ही रहते हैं। वह कितना भी इनकार करे लेकिन आतंकवाद से उसके संबंधों को झुठलाया नहीं जा सकता।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस