इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान ने धार्मिक उग्रवाद को खत्म करने में अपनी असमर्थता दिखार्इ है। यही कारण है कि पाकिस्तान ने अब 270,000 पोलियो कर्मचारियों को बढ़ते हमलों से बचाने के लिए राष्ट्रव्यापी पोलियो विरोधी अभियान को अनिश्चित काल के लिए रोकने का फैसला किया है। स्थानीय मीडिया का हवाला देते हुए बताया गया कि पोलियो के लिए राष्ट्रीय आपातकालीन अभियान केंद्र (ईओसी) द्वारा सभी प्रांतों को रोकने का निर्देश दिया गया है। अप्रैल में शुरू किया गया पोलियो रोधी अभियान कर्मचारियों पर हमले के बाद पिछले सप्ताह स्थगित कर दिया गया था।

दो पुलिस कर्मियों और दो पोलियो कर्मचारियों की हत्या

पिछले हफ्ते खैबर पख्तूनख्वा के मर्दन जिले में पोलियो वैक्सीन कर्मियों की एक टीम की सुरक्षा कर रहे दो पुलिसकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इससे पहले स्वाबी शहर में ड्यूटी के दौरान दो पोलियो कर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

नुकसान से बचाने के लिए उठाया गया कदम

पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने राष्ट्रीय आपातकालीन अभियान केंद्र (ईओसी) के हवाले से कहा कि पेशावर की घटना के बाद फ्रंटलाइन पोलियो कार्यकर्ताओं के लिए अनिश्चित और खतरनाक स्थिति सामने आई है। हमें कार्यक्रम को और बड़े नुकसान से बचाने की जरूरत है। ईओसी ने आगे कहा कि ग्लोबल पोलियो उन्मूलन पहल (एसपीईआई) के भागीदारों ने इस कदम का समर्थन किया था। इसलिए इस अभियान के लिए किसी भी क्षेत्र में आगे कोई टीकाकरण या पकड़ कर लगाने की गतिविधि नहीं की जाएगी।

धार्मिक अतिवाद पर रोक लगाने में सरकार अक्षम

इस बारे में पाकिस्तानी मूल के ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार कमल सिद्दीकी ने कहा कि ये हमले ऐसे समय में हो रहे हैं जब पाकिस्तान पोलियो के खिलाफ अपनी लड़ाई में आगे बढ़ रहा है। पाकिस्तानी अखबार 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' के लिए लिखते हुए सिद्दीकी ने तर्क दिया कि वैक्सीन श्रमिकों पर हालिया हमले पाकिस्तानियों में प्रचलित अज्ञानता और धार्मिक अतिवाद पर रोक लगाने में सरकार की अक्षमता को दर्शाते हैं। यह तब हो रहा है, जब पाकिस्तान दुनिया के उन कुछ देशों में शामिल है, जहां अभी भी पोलियो स्थानीय रूप से लोगों के बीच है। पाकिस्तान में अब तक 922,824 लोग पोलियो से संक्रमित हो चुके हैं और अब तक 21,323 लोगों की मौत हो चुकी है।

पाकिस्तानी सरकार पर कसा तंज

पाकिस्तानी सरकार की आलोचना करते हुए सिद्दीकी ने जोर देकर कहा कि इन हमलों को रोकने की जरूरत है और अधिकारियों को इन हत्याओं में शामिल लोगों का पता लगाने की जरूरत है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि एक राष्ट्र के रूप में हम पोलियो पॉजिटिव देश के रूप में अलग-थलग रहने और पहचाने जाने की शर्म को सहन करने के लिए तैयार हैं, लेकिन इस शर्म के लिए जिम्मेदार चरमपंथियों को दंडित नहीं कर सकते क्योंकि यह हमारे मूल्यों के खिलाफ है।

 

Edited By: Arun Kumar Singh