इस्लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्तान ने मंगलवार को परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम क्रूज मिसाइल राड-दो का सफल परीक्षण किया। यह मिसाइल 600 किलोमीटर तक मार कर सकती है। माना जा रहा है कि यह परीक्षण भारत की ब्रह्माोस मिसाइल से बराबरी करने के लिए किया गया। सेना के इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस के बयान के अनुसार, राड-दो हथियार प्रणाली को उन्नत निर्देश और नेविगेशन सिस्टम से लैस किया गया है।

पाकिस्‍तान का दावा है कि इस हथियार से जमीन और समुद्र में मारक क्षमता मजबूत होगी। अमेरिका स्थित गैर लाभकारी संगठन मिसाइल डिफेंस एडवोकेसी एलायंस के अनुसार, पाकिस्तान का राड मिसाइल विकास कार्यक्रम भारत की ब्रह्माोस मिसाइल से बराबरी करने के लिहाज से हो सकता है। पाकिस्तान वायुसेना के मिराज या एफ-16 लड़ाकू विमानों को राड-दो मिसाइल से लैस करने की योजना है।

पाकिस्तान ने गत माह सतह से सतह पर मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल गजनवी का परीक्षण किया था। यह मिसाइल 290 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम है। ये मिसाइल परीक्षण ऐसे समय किए जा रहे हैं, जब भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध अच्छे नहीं हैं। यही नहीं सीमा पर भी पाकिस्‍तान लगातार संघर्ष विराम का उल्‍लंघन कर रहा है। दरअसल, अनुच्‍छेद 370 को हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्‍तानी हुक्‍मरानों में बेचैनी है। यही कारण है कि वे बार बार उकसावे की कार्रवाइयों को अंजाम दे रहे हैं।

पाकिस्तान की मिसाइल गजनवी का उपयोग सिर्फ जमीन से जमीन पर मार करने के लिए किया जा सकता है। दरअसल, चीन ने M-11 मिसाइल वर्ष 1987 में पाकिस्‍तान को दी थीं। M-11 की तकनीक का इस्‍तेमाल करके पाकिस्‍तान ने गजनवी मिसाइल का निर्माण किया है। रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक भारत को लक्ष्‍य करके बनाई गई यह मिसाइल परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है। इन सबके बावजूद पाकिस्‍तानी मिसाइलें भारत की मिसाइलों की मारक क्षमता के आगे बौनी हैं। भारत के पास अग्नि-2 है जिसकी रेंज 2000 से लेकर 2500 किलोमीटर तक है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस