इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान ने लाहौर में 250,000 लोगों की एक कार्यक्रम की इजाजत देकर लाखों लोगों का जीवन खतरे में डाल दिया। इस कार्यक्रम में दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लोग जुटे। ऐसे समय में जब ईरान और सऊदी अरब जैसे देश धार्मिक समारोहों पर प्रतिबंध लगा रहे हैं, पाकिस्तान ने ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की है और स्थानीय तबलीगी जमात तबलीगी इज्तिमा द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम की अनुमति दे दी। पाकिस्तान में संक्रमित लोगों की संख्या 1408 हो गई है जिनमें सात की हालत गंभीर है। पाकिस्‍तान में अभी तक 11 लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है।

सुपर स्प्रेडर बन सकता है पाक  

रविवार को गाजा पट्टी ने कोरोना वायरस के अपने पहले दो मामलों की सूचना दी। दोनों फलस्तीनी लोग हाल ही में इस कार्यक्रम में भाग लेकर पाकिस्तान से लौटे थे। दोनों उन ढाई लाख लोगों में थे, जो 10-15 मार्च को लाहौर में एकत्रित हुए थे। पाकिस्तान ने 1300 से अधिक मामलों की सूचना दी है और वह कोरोना संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या से अनभिज्ञता जता रहा है। पत्रकार कुंवर खुलदून शाहिद ने हैरिट्ज में लिखा है कि पाकिस्तान दुनिया में कोविड-19 का सुपर स्प्रेडर बन सकता है।

ईरान से नहीं लिया सबक 

शाहिद ने लिखा कि पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या को स्पष्ट रूप से कम करके आंका गया है। कोई उस स्थिति की गंभीरता की सिर्फ कल्पना कर सकता है, जो जुम्मे की नमाज में लाखों लोगों के जुटने से उत्पन्न हुआ। ईरान ने जहां साप्ताहिक जुम्मे की नमाज को रद कर दिया है, वहीं सऊदी अरब ने फरवरी के अंत तक उमरा को निलंबित कर दिया था। लेकिन, पाकिस्तानी सरकार देश के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले शहर में ढाई लाख लोगों को एकत्रित होने से नहीं रोक सकी।

इमरान ने खड़े किए हाथ 

ऐसा नहीं कि पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को इस खतरे का इल्‍म नहीं है। इमरान खान ने कहा कि वह पैसों की कमी की वजह से ईरान से लगती सीमा और ताफ्तान में आ रहे श्रद्धालुओं कोबेहतर सुविधा नहीं दे पा रहे हैं। उन्‍होंने साफ कहा कि देश में ऐसी कोई व्‍यवस्‍था नहीं है कि लोगों को राहत दी जा सके। हालांकि उन्‍होंने यह जरूर कहा कि हमने यूथ टाइगर फोर्स बनाने का फैसला किया है जो घर-घर जाकर इस बुरे वक्‍त में लोगों की मदद करेगी और उन्‍हें खाने की चीजें मुहैया करवाएगी।  

चीन के आठ डॉक्टरों का दल पाकिस्तान पहुंचा

कोरोना की महामारी से लड़ने में मदद के लिए चीन के आठ डॉक्टरों का एक दल शनिवार को इस्लामाबाद पहुंचा। यह दल दो सप्ताह तक पाकिस्तान में रहेगा और डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों को महामारी से निपटने में मदद प्रदान करेगा। चीन पाकिस्तान को 12,000 टेस्टिंग किट, 3,00,000 मास्क, 10,000 प्रोटेक्टिव सूट पहले ही दे चुका है। इसके अलावा एक आइसोलेशन अस्पताल बनाने में मदद की भी बात कही है।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस