नई दिल्‍ली(एएनआई) । चीन के झिंजियांग प्रांत में उइगर  मुसलमानों पर चीन के कथित अत्‍याचार की विश्वव्यापी आलोचना के बाद भी पाकिस्तान ने चीन के शीर्ष राजनयिक के साथ बैठक में इस मुद्दों को उठाने से परहेज किया।

झ‍िंजियांग इलाके में मुस्लिमों की एक जाति उइगर रहती है। चीन सरकार ने आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए इन पर कई प्रकार का प्रत‍िबंध लगा दिया है। अरब न्‍यूज के मुताबि‍क पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के संघीय मंत्री नूरुल हक कादरी ने बताया क‍ि बैठक में उइगर मुस्लिमों के मामले पर चर्चा नहीं हुई। कादरी ने आगे बताया क‍ि बैठक में इस्‍लाम के स्‍कॉलर के आदान-प्रदान पर बात हुई है जिसको लेकर जल्‍द ही ज्ञापन दिया जायेगा।   

अब तक पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास से इस बैठक से लेकर कोई आध‍िकारिक बयान जारी नहीं क‍िया गया है। बैठक के बारे में बताते हुए मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने अरब न्‍यूज को बताया कि चीन का दुश्‍मन पाकिस्‍तान का दुश्‍मन है। वहीं आर्थिक गल‍ियारे पर भी अपना रुख स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि इस्‍लामाबाद इस पर कोई समझौता नहीं करेगा। 

चीन के पश्चिमी भाग झिंजियांग इलाके में उइगर बड़े पैमाने पर रहते हैं। कई अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने चीन पर आरोप लगाया है कि वे उइगरों पर सामूहिक ज्‍यादत‍ी कर रहे हैं। उन्‍हें शिविरों में भेजा जा रहा है। उनपर धार्मिक प्रतबिंध लगा कर पुन: शिक्षा या प्रवचन से गुजरने के लिए मजबूर किया जा रहा।

Posted By: Jagran News Network

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस