नई दिल्ली [जागरण स्‍पेशल]। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की सोशल मीडिया पर बड़ी खिल्‍ली उड़ रही है। इसकी वजह उनका दिया वह बयान है जो उन्‍होंने विदेशी मेहमानों के सामने दिया है। इसकी सबसे बड़ी दिलचस्‍प बात यही है कि इसकी शुरुआत पाकिस्‍तान से ही हुई है। दरअसल, खुद को पत्रकार बताने वाले एक शख्‍स जिनका नाम सैयद तलत हुसैन ने एक वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है। इसमे वह कह रहे हैं कि जर्मनी और जापान की सीमा एक दूसरे से मिलती है। 

इस वीडियो के सोशल मीडिया पर आने के बाद से इमरान खान की फजीहत शुरू हो गई है। उनकी खिल्‍ली उड़ाने वालों में कई उनके अपने ही नागरिक भी हैं। इतना ही नहीं पाकिस्‍तान पिपुल्‍स पार्टी के प्रमुख और सांसद बिलावल भुट्टो ने तलत के शेयर किए वीडियो पर जवाब देते हुए यहां तक लिखा कि  ही होता है, जब ऑक्सफोर्ड में लोगों को सिर्फ इसलिए प्रवेश करने दिया जाता है, क्योंकि वे क्रिकेट खेलना जानते हैं...।"

बिलावल भुट्टो ज़रदारी के इसी ट्वीट को जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने भी रीट्वीट किया है। कुछ भारतीयों ने इमरान खान का मजाक बनाते हुए यहां तक लिखा है कि ...और इन्हें कश्मीर चाहिए।'

खुद तलत ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा है कि "जापान पूर्वी एशिया का प्रशांत महासागर में स्थित द्वीपीय देश है, और जर्मनी मध्य यूरोप में है... द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान दोनों एक ही ओर से लड़ रहे थे... लेकिन प्रधानमंत्री इमरान खान कुछ और ही समझते हैं, और अंतरराष्ट्रीय मेहमानों के सामने ऐसा कहते हैं...।" हालांकि कुछ ऐसे भी हैं जो इमरान खान के इस बयान को स्लिप ऑफ टंग का नाम दे रहे हैं या ये कह रहे हैं कि

शायद पीएम साहब फ्रांस और जर्मनी की बात करना चाह रहे थे लेकिन जुबान से कुछ और निकल गया। लेकिन, वहीं पाकिस्‍तान की पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्‍बानी खार ने इस मसले को न सिर्फ पाकिस्‍तान की नेशनल असेंबली में उठाया बल्कि वह यह कहने से भी नहीं चूकी कि इमरान खान को न तो दुनिया की भूगोल का ज्ञान है और न ही इतिहास का। उन्‍होंने सदन में ये भी कहा कि इमरान खान ने तेहरान के मेहमानों के सामने इस तरह की बात कर पूरे देश का सिर शर्म से झुका दिया है। उनके मुताबिक इमरान खान के इस बयान से पूरा देश विश्‍व के सामने हंसी का पात्र बनकर रह गया है। उन्‍होंने सांसदों की मौजूदगी में पीएम इमरान खान से जानना चाहा कि वो सभी के सामने आकर बताएं कि आखिर जर्मनी और जापान की सीमाएं कब एक दूसरे से मिलती थीं।

इमरान के वीडियो को लेकर उनकी मानवाधिकार मंत्री शेरीन माजरी ने हालांकि उनका बचाव किया और कहा कि इमरान खान के अधूरे वीडियो को दिखाकर बेवजह का मजाक बनाया जा रहा है। उनके मुताबिक यह केवल स्लिप ऑफ टंग का मामला है इससे ज्‍यादा कुछ और नहीं है। उन्‍होंने सांसदों से अपील की कि वह इमरान खान का मजाक बनाने से पहले पूरा वीडियो जरूर देख लें।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि पाकिस्‍तान पीएम इमरान खान की केवल हंसी ही नहीं उड़ रही है बल्कि नेशनल असेंबली में उनकी एक और बयान को लेकर जबरदस्‍त आलोचना भी हो रही है। यह बयान भी उन्‍होंने ईरान के राष्‍ट्रपति के सामने दिया है। दरअसल उन्‍होंने कहा कि पूर्व में पाकिस्‍तान की जमीन का इस्‍तेमाल ईरान में आतंकी हमलों के लिए आतंकियों द्वारा किया जाता रहा है। उनके इस बयान को लेकर नेशनल असेंबली में कई सांसदों ने इमरान के इस बयान की तीखी आलोचना की है। सांसदों का कहना है कि आज तक किसी भी पीएम ने इस तरह से शर्मिंदा करने वाला बयान नहीं दिया है जैसा इमरान खान ने दिया है। 

पाकिस्‍तान से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के  लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप