कराची, आइएएनएस। दुनिया की बड़ी क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज(Moodys) ने पाकिस्तान के आर्थिक हालात को लेकर चेतावनी दी है। मूडीज ने पाकिस्तान को उन देशों में रखा है, जिनपर अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर का सबसे ज्यादा असर पड़ा है। पाकिस्तान की ये आर्थिक हालत इसलिए हुई है क्योंकि उसकी विदेशी मुद्रा पर निर्भरता और बाहरी ऋण भुगतान ने पाकिस्तान की हालत कमजोर कर दी है।

मूडीज ने कहा है, 'सबसे बड़ा जोखिम एशिया-प्रशांत (APAC), मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका (MENA) और लैटिन अमेरिका (LatAm) में बी-रेटेड देशों पर है। कमजोर ऋण वहन क्षमता, विदेशी मुद्रा पर निर्भरता के कारण इन देशों की अर्थव्यवस्था में तेजी से गिरावट देखी जा रही है।' एजेंसी ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ-साथ कुछ अन्य देशों को गंभीर आर्थिक हालातों को लेकर अवगत कराया गया है। एजेंसी ने आगे चेतावनी देते हुए कहा है कि कर्ज लेने के कारण पाकिस्तान, श्रीलंका, मिस्र, अंगोला और घाना आने वाले समय में सबसे ज्यादा गिरावट देखेंगे।

पाकिस्तान पर बढ़ेगा कर्ज का बोझ
पाकिस्तान के कर्ज में और बढ़ोत्तरी ही हुई है। 39 महीने के आईएमएफ समझौते के साथ पाकिस्तान को 6 बिलियन डॉलर की आर्थिक सहायता दी गई है, जिससे वो अपनी आर्थिक हालत को ठीक सके।पाकिस्तान के राजकोषीय घाटे में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। जिसके परिणाम में पाकिस्तान में ब्याज दरें काफी ऊंची रहेंगी। पिछले दो सालों में पाकिस्तान के सेंट्रल बैंक ने ब्याज दरों में 750 बेस प्वाइंट की बढ़ोत्तरी की है।अल्पकालिक राजकोष बिलों के लगातार रोलओवर के साथ, इन उच्च घरेलू ब्याज दरों ने सरकार की उधार लेने की लागत में तेजी से वृद्धि की है।

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप