कराची, एजेंसियां। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक विमान शुक्रवार को कराची एयरपोर्ट पर लैंडिंग करने से कुछ मिनट पहले दुर्घटनाग्रस्त होकर घने रिहायशी इलाके में जा गिरा। विमान में 91 यात्री और आठ क्रू मेंबर समेत कुल 99 लोग सवार थे। दो यात्रियों को छोड़कर सभी यात्रियों के मारे जाने की आशंका है। अब तक करीब 66 शव अस्पतालों में पहुंचाए जा चुके हैं। विमान गिरने से बस्ती के दर्जनों घरों व वाहनों में आग लग गई। सेना, पुलिस और फायर ब्रिगेड के लोग शवों की तलाश में जुटे हुए है। इन घरों के कई लोगों के हताहत होने की आंशका है। ईद से पहले हुए इस हादसे से कई घरों में मातम छा गया है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दुर्घटना पर गहरा अफसोस जताया है।

लॉकडाउन के चलते पाकिस्तान में अभी करीब एक हफ्ते पहले ही विमान परिचालन को छूट मिली है। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआइए) के प्रवक्ता अब्दुल्ला हाफिज ने बताया कि पीके-8303 फ्लाइट 91 यात्री और आठ क्रू मेंबर के साथ लाहौर से कराची आ रही थी। करीब 15 साल पुराने एयरबस ए 320 विमान को कैप्टन सज्जाद गुल उड़ा रहे थे। यात्रियों में 31 महिलाएं और 9 बच्चे भी थे। प्रवक्ता के अनुसार पायलट ने 2.37 (स्थानीय समय) पर लैंडिंग में दिक्कत की बात एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) को बताई थी।

लैंडिंग के लिए दोनों रनवे खाली थे

एयरपोर्ट के सूत्रों ने बताया कि कराची एयरपोर्ट के दोनों रनवे खाली थे। एटीसी से संपर्क होने पर पायलट ने कहा कि वह लैंडिंग का प्रयास कर रहा है लेकिन सफल नहीं हो पा रहा है। लाइवएटीसीडाटनेट पर पायलट व एटीसी के बीच दर्ज बातचीत ते अनुसार पायलट ने दोनों इंजनों के ठप होने की जानकारी दी। इसके बाद उसने फिर एक बार प्रयास किया और 12 सेंकेंड बाद आपात स्थिति का संकेत दिया। एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि विमान का पर मोबाइल टावर से टकराया इसके बाद विमान घरों पर जा गिरा।

एयरपोर्ट के सूत्रों ने बताया कि कराची एयरपोर्ट के दोनों रनवे खाली थे। एटीसी से संपर्क होने पर पायलट ने कहा कि वह लैंडिंग का प्रयास कर रहा है लेकिन सफल नहीं हो पा रहा है। लाइवएटीसीडाटनेट पर पायलट व एटीसी के बीच दर्ज बातचीत ते अनुसार पायलट ने दोनों इंजनों के ठप होने की जानकारी दी। इसके बाद उसने फिर एक बार प्रयास किया और 12 सेंकेंड बाद आपात स्थिति का संकेत दिया। एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि विमान का पर मोबाइल टावर से टकराया इसके बाद विमान घरों पर जा गिरा।


हादसे का सही कारण अभी स्पष्ट नहीं

पीआइए के मुखिया पूर्व एयर वाइस मार्शल अरशद मलिक ने कहा कि हादसे का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। पायलट ने एटीसी को कुछ तकनीकी गड़बड़ी की जानकारी दी थी। उन्होंने मीडिया के कुछ हिस्सों में आइ इस बात से इन्कार किया कि उड़ान से पहले ही विमान में कोई दिक्कत थी। मलिक के मुताबिक उड़ान से पहले सुरक्षा के सभी मानकों का पालन किया गया। यहां पहली बार में लैंडिंग से नाकाम रहने पर पायलट ने दूसरी कोशिश की तभी हादसा हो गया। जांच के लिए चार लोगों की टीम बनाई गई है। उसकी रिपोर्ट के बाद ही हादसे का सही कारण बता चल पाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि घरों को नुक्सान जरूर हुआ लेकिन कोई पूरा ध्वस्त नहीं हुआ। मेरी जानकारी के मुताबिक इन घरों के रहने वालों में अभी किसी की मौत भी नहीं हुई है।

मौके पर मचा कोहराम

विमान दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद मॉडल कॉलोनी के जिन्ना गॉर्डेन में धुएं का गुबार देखा गया। कई घरों व वाहनों में आग लग गई। हादसे के तुरंत बाद राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया। सेना और वायु सेना ने भी अपनी टीमें भेजीं। इस क्षेत्र के रहने वाले 25 से 30 लोगों को अस्पताल पहुंचाया गया है। सभी बुरी तरह जले हुए हैं। अस्पतालों में पहुंचे 60 शव सिंध की स्वास्थ्य मंत्री डाक्टर अजरा और ईधी वेलफेयर ट्रस्ट के साद ईधी ने बताया कि अब तक 60 शव अस्पताल पहुंचाए जा चुके हैं। डा. अजरा ने दो लोगों के चमत्कारिक रूप से बचने की जानकारी भी दी है। यह हादसा ऐसे समय जब देश में 22 मई से 27 मई तक ईद की छुट्टियां घोषित की गई हैं।

पीएम मोदी, अल्वी व इमरान ने शोक जताया

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी और प्रधानमंत्री इमरान खान ने हादसे पर अफसोस जताया है। इमरान ने दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस दुर्घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने एक ट्वीट कर रहा कि इस हादसे में जाने गंवाने वाले लोगों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। इसके साथ ही मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। पाक के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने हादसे पर अफसोस जताने के साथ सेना को बचाव कार्य में स्थानीय प्रशासन की मदद करने का आदेश दिया है।

बैंकर जफर महमूद समते दी की बची जान

बैंकर जफर महमूद समेत दो की जान बचीइस विमान हादसे में बैंक आफ पंजाब के अध्यक्ष जफर महमूद और जुबैर नामक यात्री की जान बच गई है। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने बताया कि जफर ने अपनी मां को फोन पर अपनी सलामती की इत्तिला दे दी है। मुराद के जहां चार जगह फ्रैक्चर हुआ है वहीं जुबैर 35 फीसद जला है। अस्पताल में भर्ती दोनों यात्रियों की हालत स्थिर है। खबरों में पहले तीन लोगों के बचने की जानकारी दी गई थी लेकिन तीसरा व्यक्ति स्थानीय निवासी निकला। उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस