कोटली, एएनआइ। पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर (पीओके) के कोटली शहर में शांतिपूर्ण रैली कर रहे लोगों पर पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी, जिससे कई प्रदर्शनकारी गंभीर रूप से घायल हो गए। ये प्रदर्शनकारी अपने उन अधिकारों की मांग कर रहे थे, जो पाकिस्‍तान के अन्‍य क्षेत्रों में रहनेवाले को प्राप्‍त हैं। पिछले सात दशकों ने पीओके में रहने वाले लोग, कई बंदिशें झेल रहे हैं।

बड़े पैमाने पर प्रदर्शन करने जुटे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे, जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस पूरे घटनाक्रम के बाद जो तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुईं, उससे पता चलता है कि कानून के रखवाले शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर कितनी बर्बरता के साथ पेश आए। इससे पता चलता है कि कश्मीरी लोगों पर क्रूरता करने के लिए इस्लामाबाद द्वारा सुरक्षा बलों को खुली छूट दी गई है।

हालांकि यह पीओके के लोगों पर पाकिस्तान सरकार की क्रूरता का एकमात्र उदाहरण नहीं है। जब-जब कभी इस क्षेत्र में असंतोष को लेकर आवाज बुलंद होती है, तब-तब स्‍थानीय प्रशासन लोगों की आवाज को दबाने के लिए शक्ति का प्रयोग करता है। लेकिन लोगों में धीरे-धीरे अंसतोष बढ़ता जा रहा है, जो जल्‍द ही बड़े आंदोलन का रूप ले सकता है। हालांकि पाकिस्‍तानी सरकार का मानना है कि पीओके के लोगों को भी समान अधिकार प्राप्‍त हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस