इस्लामाबाद, एएनआइ। उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान के कबायली इलाके में वन भूमि के विवादित कब्जे को लेकर दो गुटों के बीच हुई झड़प हुई। कुर्रम जिले के कोहाट डिवीजन में शिया-सुन्नी के बीच हुए संघर्ष में कम से कम 11 लोग मारे गए और 15 घायल हो गए। समाचार एजेंसी एएनआइ ने एक विश्वसनीय सूत्र के अनुसार बताया कि विवादित पर्वतीय जंगलों में पेड़ों की कटाई को लेकर दो समूहों के बीच झड़प हुई।

सूत्र ने कहा कि अब तक दोनों पक्षों की ओर से हुई गोलीबारी में 11 लोग मारे गए हैं और 15 घायल हुए हैं। इस दौरान भारी हथियारों का इस्तेमाल किया गया और कल से लड़ाई जारी है। शांति बहाल करने के लिए पुलिस को तैनात किया गया है।

बता दें कि पाकिस्तान बढ़ती सांप्रदायिक हिंसा का सामना कर रहा है, अल-कायदा और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से जुड़े सशस्त्र सुन्नी समूह अक्सर शियाओं की सभाओं पर हमला करते हैं, जो देश की मुस्लिम आबादी का लगभग 20 फीसद हिस्सा हैं।

तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के आगे झुकी इमरान सरकार

वहीं, दूसरी ओर प्रतिबंधित कट्टरपंथी इस्लामी समूहों के आगे प्रधानमंत्री इमरान खान ने घुटने टेक दिए हैं। प्रतिबंधित कट्टरपंथी इस्लामी समूह तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) ने चेतावनी दी थी कि उसके कार्यकर्ता मंगलवार शाम तक इस्लामाबाद की ओर बढ़ेंगे। यही वजह है कि प्रतिबंधित कट्टरपंथी इस्लामी समूह के दबाव में पाकिस्तान सरकार ने रविवार को तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 350 से अधिक कार्यकर्ताओं को रिहा कर दिया। इतना ही नहीं टीएलपी ने घोषणा की कि बुधवार तक बाकी कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमें भी वापस ले लिए जाएंगे।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में सांप्रदायिक हिंसा बढ़ने के साथ ही विपक्षी राजनीतिक पार्टियों ने भी इमरान सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। हाल ही में जारी हुई एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान वर्ल्ड जस्टिस प्रोजेक्ट के रूल आफ ला इंडेक्स 2021 की रैंकिंग में 139 देशों में 130 वें स्थान पर है।

यह भी पढ़ें: बलूचिस्तान में राजनीतिक उथल-पुथल, मुख्यमंत्री के बाद असेंबली स्पीकर ने भी दिया इस्तीफा

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan