नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का असर दिखने लगा है। अब यहां के लोग अपने को ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहे हैं मगर पाकिस्तान तमाम मंचों पर इसे गलत बता रहा है। खैर ये बात दीगर है कि जहां से भारत ने अनुच्छेद 370 को हटाया है वहां के लोग अब ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। ठीक इसी तरह से अब कश्मीर के उस हिस्से से भी आजादी की मांग उठने लगी है जिस पर पाकिस्तान ने जबरन कब्जा कर रखा है और वो उसे अपना बताता है। इन इलाकों में रहने वाले लोग अब पाकिस्तान से आजादी की मांग कर रहे हैं। यहां के रहने वाले हजारों लाखों लोगों का कहना है कि वो पाकिस्तान से आजादी चाहते हैं, इसके लिए वहां के कुछ संगठन और लोग सड़क पर उतरकर प्रदर्शन भी कर रहे हैं। 

स्थानीय संगठनों की मांग 

कुछ समय से पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में इस तरह की तमाम गतिविधियां काफी तेज हो गई है। यहां के एक संगठन पीपल्स नेशनल अलायंस (पीएनए) ने 22 अक्टूबर को एक रैली का आयोजन किया था। राजधानी मुजफ्फराबाद से इस रैली को निकाला गया था। जब ये रैली निकाली गई उसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई। ये संगठन एक आजाद कश्मीर की मांग कर रहा है। बताया जा रहा है कि इस प्रदर्शन में पुलिस के साथ हुई झड़प के बाद 100 से अधिक लोग घायल हुए थे। पुलिस ने इसमें शामिल दर्जनों कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया था।

शुरू हो रहे हिंसक प्रदर्शन

अब पाकिस्तान के नियंत्रण वाले कश्मीर में आजादी की आवाजें तेज होने लगी है। इन इलाकों के लोग पाकिस्तान से आजादी चाहते हैं और भारत के साथ मिलकर आगे बढ़ना चाह रहे हैं। ये बात किसी से छिपी नहीं है कि पाकिस्तान के हालात किस तरह के हैं और वहां के लोग किस तरह से अपना जीवन गुजर बसर कर रहे हैं। अभी तक श्रीनगर के इलाके में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच लाठीचार्च और गोलियां चलाए जाने की खबरें आया करती थीं मगर अब यही चीजें पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से आ रही हैं।

आजादी मतलब आजादी 

जम्मू कश्मीर में एक संगठन है जिसका नाम जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ ) है। इसी संगठन की ओर से इस साल 4 मार्च को फ्रीडम मार्च नामक एक रैली का आयोजन किया गया था। इस रैली के माध्यम से शुरू से ही ये मांग की जा रही है। ये वो संगठन है जो पूरे कश्मीर को भारत और पाकिस्तान दोनों से आजादी चाहता है। जेकेएलएफ के अध्यक्ष तौकीर गिलानी ने कहा कि हम यह भी मांग करते हैं कि भारत और पाकिस्तान, कश्मीर के सभी हिस्सों से अपने सैनिक हटाएं और इसे एक विसैन्यीकृत क्षेत्र घोषित किया जाए।  

ये भी पढ़ें:- बगदादी के मारे जाने के बाद जानिए कौन है वो प्रोफेसर, जिसके हाथ में पहुंची ISIS की कमान

 

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप