इस्लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को भगोड़ा घोषित कर दिया है। सरकार ने शरीफ पर अपनी मेडिकल रिपोर्ट नहीं भेजने और जमानत के प्रावधानों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही उनकी जमानत रद कर दी गई है। भ्रष्टाचार के मामले में सात साल की जेल की सजा काट रहे शरीफ को पिछले साल 29 अक्टूबर को हाई कोर्ट ने स्वास्थ्य कारणों के आधार पर आठ हफ्ते की जमानत दी थी। वह 19 नवंबर को इलाज के लिए लंदन गए थे, लेकिन तब से वापस नहीं लौटे।

प्रधानमंत्री इमरान खान की सलाहकार डॉ फिरदौस आशिक अवान ने बुधवार को कैबिनेट बैठक के बाद कहा, शरीफ अपनी मेडिकल रिपोर्ट भेजने में नाकामयाब रहे। उन्होंने एक मेडिकल सर्टिफिकेट भेजा था, जो पर्याप्त नहीं है। इसी आधार पर उन्हें भगोड़ा घोषित किया गया है। यदि वह जल्द ही लंदन से नहीं लौटे तो उन्हें घोषित अपराधी माना जाएगा।

इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने पंजाब सरकार से इस मामले में नजर रखने को कहा था। शरीफ को कई बार पत्र लिखकर लंदन के किसी अस्पताल की मेडिकल रिपोर्ट दाखिल करने को कहा गया था लेकिन उन्होंने एक सर्टिफिकेट भेजा, जिसे मेडिकल बोर्ड ने अस्वीकार कर दिया। अगर नवाज वाकई गंभीर रूप से बीमार हैं तो उन्हें विस्तृत मेडिकल रिपोर्ट दाखिल करने में क्या एतराज है?

शाहबाज को भी घेरा
इमरान की सलाहकार ने नवाज के भाई और विपक्ष के नेता शाहबाज शरीफ पर भी करारा हमला बोला। उन्होंने कहा, शाहबाज महीनों से बिना किसी कारण लंदन में हैं। वह अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी नहीं निभा रहे। यहां उनके लिए शानदार दफ्तर की व्यवस्था है, जिस पर हर महीने बड़ा खर्च होता है। उन्हें तुरंत लंदन से लौटना चाहिए। शरीफ के निजी डॉक्टर ने दावा किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री हृदय की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। धमनी से संबंधित इस बीमारी का निदान सर्जरी से हो सकता है, जो काफी जटिल है।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस