नई दिल्ली, एजेंसी। गिलिगित बाल्टिस्तान के हुंजा इलाके में बुधवार को भारी संख्या में लोगों ने मूलभूत और संवैधानिक अधिकारों की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे और सरकार के खिलाफ रैली निकाली। बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच विवादित मुद्दों में से गिलगित बाल्टिस्तान का भी मुद्दा है। भारत और पाकिस्तान दोनों इसे अपना-अपना हिस्सा बताते हैं। यहां लोग लगातार पाक के खिलाफ प्रदर्शन करते रहते हैं। 

 गौरतलब है कि अप्रैल 1949 तक गिलगित-बाल्टिस्तान पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का हिस्सा माना जाता रहा। लेकिन, 28 अप्रैल 1949 को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की सरकार के बीच कराची समझौता हुआ, जिसके तहत गिलगित के मामलों को सीधे पाकिस्तान की केंद्र सरकार के मातहत कर दिया गया। खास बात ये है कि इस समझौते में इलाके का कोई भी नेता शामिल नहीं था। 

Posted By: Vikas Jangra