इस्‍लामाबाद, एएनआइ। गुलाम कश्‍मीर के मुजफ्फराबाद में मंगलवार को पाकिस्‍तान सरकार से आजादी की मांग कर रहे राजनीतिक दलों की रैली में पुलिस के लाठीचार्ज में दो लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए।  यह रैली ऑल इंडिपेंडेंट पार्टीज अलायंस (AIPA)के तहत विभिन्न राजनीतिक दलों ने आयोजित की थी। वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि पुलिस बर्बरता पूर्वक लोगों पर फायरिंग और पिटाई कर रही है।

पीओके में लोग शिक्षा-स्‍वास्‍थ्‍य बुनियादी सुविधाओं से भी महरूम हैं। कुछ दिनों पहले आए भूकंप में काफी लोग मारे गए थे। वहां की सड़कें ध्‍वस्‍त हो गई थीं लेकिन उनका पुर्ननिर्माण नहीं किया गया।

पश्‍तूनों ने किया था प्रदर्शन

करीब एक महीने पहले पीओके में पश्तूनों ने पाकिस्‍तान सरकार के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया था। पश्तून लगातार सड़क पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे थे। ये पश्तून इमरान खान और बाजवा के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं। इनका आरोप है कि पाकिस्‍तानी आर्मी इनका दमन कर रही है।

बताया जाता है कि पाकिस्तानी आर्मी और वायुसेना के हमलों की वजह से हजारों पाकिस्तानी पश्तून देश छोड़कर भागने के लिए मजबूर हो गए। अब तक करीब आठ हजार पश्तून लोग लापता हो चुके हैं। पाकिस्‍तान में हर एक पश्तून को शक के नज़रिए से देखा जाता है। पश्तूनों के लिए पाकिस्तान में सांस लेना तक मुश्किल है। इसके अलावा बलूच, मुजाहिरों और अन्‍य अल्‍पसंख्‍यकों के खिलाफ पाकिस्‍तान में बर्बर तरीके से दमन किया जा रहा है।

आजादी की मांग करने पर 22 लोगों को किया था गिरफ्तार 

10 सितंबर को पाकिस्‍तान सरकार से आजादी को लेकर पीओके के लोगों की आवाज बुलंद करते हुए प्रदर्शन किया था। इसे दौरान पाकिस्तान पुलिस स्‍थानीय लोगों के खिलाफ बड़ी ही बर्बरता से पेश आया है। पुलिस ने आजादी की मांग कर रहे 22 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस इन लोगों पर आंसू गैस का भी इस्तेमाल किया है। इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प भी देखने को मिली। यह झड़प शनिवार को मुजफ्फराबाद में नियंत्रण रेखा के करीब देखने को मिली। बाद में इस इलाके में मोबाईल फोन सर्विस को बंद कर दिया गया था।

Pok के छात्रों पर दर्ज की एफआईआर 

इससे पहले जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ 13 सितंबर को पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मुजफ्फराबाद (गुलाम कश्मीर) रैली आयोजित की गई थी। इस दौरान भारी तादाद में Pok के छात्रों ने पाकिस्‍तान सरकार से आजादी को लेकर नारेबाजी थी। बाद में उन छात्रों और युवाओं के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी।

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप