मीरपुर, एएआइ।यूएन के मंच से कश्मीर पर काफी दर्द भरे और झूठे अंदाज में बात करने वाले इमरान खान को लगता है गुलाम कश्मीर के लोगों का दर्द नहीं दिखता है। इसलिए तो बात-बात पर कश्मीर का राग अलापने वाले इमरान खान आज पूरे 6 दिन बाद पीओके के मीरपुर जिले के भूकंप प्रभावित इलाकों तक पहुंच गए। इमरान खान को गुलाम कश्‍मीर में आए जबरदस्‍त भूकंप में हताहत हुए लोगों का हाल जानने का आखिरकार वक्‍त मिल ही गया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को गुलाम कश्मीर के भूकंप प्रभावित मीरपुर जिले का दौरा किया। इमरान खान ने गुलाम कश्मीर के प्रधानमंत्री राजा फारूक हैदर के साथ बैठक की और उन्हें नुकसान के साथ-साथ बचाव और पुनर्वास उपाय के बारे में बताया गया। बैठक में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, कश्मीर मामलों के मंत्री और गिलगित-बाल्टिस्तान अली अमीन गंडापुर और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल मोहम्मद अफजल भी शामिल हुए।

इमरान खान पीड़ितों का हाल जानने संभागीय अस्पताल भी गए।

 मीरपुर के संभागीय आयुक्त चौधरी मोहम्मद तैय्यब ने कहा कि पाकिस्तान के पंजाब के मीरपुर और झेलम जिले में 680 लोग घायल हुए हैं जबकि 680 अन्य घायल हुए हैं।

अबतक 40 लोगों की मौत

पिछले हफ्ते, गुलाम कश्मीर(पीओके) और आसपास के क्षेत्रों में दो भूकंप आए थे। 24 सितंबर को आए भीषण भूकंप में रविवार को पंजाब के पड़ोसी झेलम जिले में मीरपुर और दो पीड़ितों की मौत के बाद मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 40 तक पहुंच गई है जबकि गंभीर रूप से घायलों की संख्या 172 बताई जा रही है। इसके अलावा 680 लोग मामूली रूप से घायल बताए जा रहे हैं। डॉन न्यूज ने रविवार को मीरपुर के डिवीजनल कमिश्नर चौधरी मोहम्मद तैय्यब के हवाले से यह जानकारी दी। घायल व्यक्तियों में से 27 का अभी भी संभागीय मुख्यालय के अस्पताल में इलाज चल रहा है और तीन लोगों को संयुक्त सैन्य अस्पताल, मंगला में भर्ती कराया गया था। 

27 सितंबर को, प्रधानमंत्री इमरान खान ने भूकंप में मारे गए प्रत्येक व्यक्ति के लिए 500,000 पाकिस्तानी रुपये के मुआवजे की घोषणा की थी। हालांकि, अभी तक घायलों को मुआवजा देने या संपत्ति का नुकसान झेलने वालों के बारे में कोई घोषणा नहीं की गई है।तैय्यब ने कहा कि प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, कुछ 454 कंक्रीट के घरों को नष्ट कर दिया गया, 140 स्कूल भवनों और 200 वाहनों को नुकसान पहुंचा, जिसमें लगभग 500 मवेशी मारे गए, जो 5.8-तीव्रता के भूकंप के कारण उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में भी महसूस किए गए थे।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस