पेशावर, आइएएनएस। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मुल्क से गरीबी खत्म करने के लिए चीन के मॉडल पर चल रहे हैं। उन्होंने सोमवार को एक कार्यक्रम में कहा, 'मेरी सरकार उन उपायों का अनुसरण कर रही है जिन्हें चीन की सरकार ने अपने लोगों को गरीबी से बाहर निकालने के लिए अपनाया है। हम उद्योगों और टेक्सटाइल सेक्टर से जुड़े लोगों को प्रोत्साहन राशि देने के लिए नीतियां बना रहे हैं। हमारा मकसद यह है कि इससे ये लोग नौकरियां सृजित कर सकें और लोगों को चीन की तरह गरीबी से बाहर निकलने में मदद मिल सके।'

गत अगस्त में पाकिस्तान की सत्ता संभालने वाले इमरान ने कहा कि चीन ने औद्योगीकरण के जरिये धन जमा किया और बाद में इसका उपयोग समाज के निचले तबके के उत्थान के लिए किया। चीन की तरह उनकी सरकार ने भी गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले लोगों में निवेश कर गरीबी को खत्म करने पर पूरा ध्यान केंद्रित किया है।

पाकिस्तान में हर दस में चार गरीब
पाकिस्तान के योजना, विकास और सुधार मंत्रालय ने साल 2016 में बहुआयामी गरीबी पर पहली आधिकारिक रिपोर्ट जारी की थी। इसके अनुसार, देश की करीब 39 फीसद आबादी गरीब है। इसका मतलब यह हुआ कि हर दस नागरिक में चार गरीब हैं।

Posted By: Ravindra Pratap Sing

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस