इस्‍लामाबाद, प्रेट। कश्‍मीर के मुद्दे पर पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने टेलीफोन पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप से बातचीत की। यह बातचीत संयुक्‍त राष्‍ट्र सिक्‍योरिटी काउंसिल में होने वाली कश्‍मीर के मुद्दे पर बंद कमरे की बैठक से ठीक पहले हुई ह‍ै। इस बैठक में United Nations Security Council के अमेरिका और चीन समेत 5 स्थायी सदस्य और 10 अस्थायी सदस्य शामिल हो रहे हैं।  

ट्रंप को अपने विश्‍वास में लेने की कोशिश  
पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक के ठीक पहले इमरान खान ने अमेरिकी राष्ट्रपति को "अपने विश्वास में" लिया क्योंकि भारत सरकार ने जम्मू और काश्मीर की विशेष स्थिति को रद्द कर दिया है। उन्‍होंने कहा कि पीएम ने ट्रंप को कश्मीर में हाल के घटनाक्रम और क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा पैदा होने वाली पाकिस्तान की चिंता से अवगत कराया। 

अफगानिस्‍तान पर भी बातचीत 
कुरैशी ने पाकिस्‍तान रेडियो के हवाले से यह जानकारी दी। विदेश मंत्री ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच "सौहार्दपूर्ण वातावरण" में बातचीत हुई। उन्होंने कश्मीर मुद्दे पर आगे भी संपर्क बनाए रखने पर सहमति जताई। उन्‍होंने अफगानिस्‍तान की स्थिति पर भी बातचीत की। प्रधानमंत्री खान ने कहा कि अफगानिस्तान में शांति बनाए रखने में पाकिस्तान रचनात्मक भूमिका निभा रहा है और इसने अतीत में भी प्रयास किए और हैं भविष्य में भी ऐसा करता रहेगा। 

12 मिनट तक हुई बातचीत 
प्रेस कांफ्रेंस में कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से चार से संपर्क किया है। वे फ्रांसीसी राष्ट्रपति से भी संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि वे हमारी स्थिति को समझें।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों नेताओं के बीच करीब 12 मिनट तक बातचीत हुई। इस बैठक से पहले इमरान का डोनाल्‍ड ट्रंप को फोन करना काफी अहम माना जा रहा है।

बता दें कि कश्‍मीर मुद्दे पर पाकिस्‍तान को चीन के अलावा किसी भी बड़े देश का साथ नहीं मिला है। ऐसे में UNSC में इस मुद्दे पर पाक को किसी का भी साथ मिलने की संभावना नहीं है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021