कराची, पीटीआइ। पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत में एक हिंदू पशु चिकित्सक को ईश निंदा के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। एक स्थानीय मौलवी ने पुलिस में चिकित्सक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

प्रांत के मीरपुरखास जिले के फुलद्योन कस्बे में प्रर्शनकारियों द्वारा हिंदुओं की दुकानों में आग लगाने और सड़कों पर टायर जलाने के बाद रमेश कुमार नाम के चिकित्सक को गिरफ्तार कर लिया गया। स्थानीय मस्जिद के प्रमुख मौलवी इशाक नाहरी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि डॉक्टर ने कुरान का पन्ना फाड़ लिया और उससे दवा की पुडि़या बनाई है।

स्थानीय थाने के एसएचओ जाहिद हुसैन लेघारी ने कहा कि चिकित्सक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। एसएचओ ने कहा कि उचित जांच की जाएगी। कस्बे में अशांति फैल जाने के बाद चिकित्सक को सुरक्षित ठिकाने पर ले जाया गया है।

सिंध प्रांत के भीतरी हिस्से में रहने वाले हिंदुओं और पाकिस्तान हिंदू काउंसिल पूर्व में शिकायत कर चुका है कि निजी दुश्मनी के कारण अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को ईश निंदा कानून के तहत निशाना बनाया जा रहा है। ईश निंदा कानून के तहत 1987 से 2016 के बीच कम से कम 1,472 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए जा चुके हैं। यह जानकारी लाहौर के सेंटर फार सोशल जस्टिस द्वारा जुटाए गए आंकड़े के आधार पर दी गई है।

पाकिस्तान में हिंदू सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है। अधिकृत अनुमान के मुताबिक, पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं। लेकिन समुदाय के मुताबिक, देश में 90 लाख से ज्यादा हिंदू हैं। हिंदुओं की अधिकांश आबादी सिंध प्रांत में है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस