लाहौर, एएनाआइ। भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए पाकिस्‍तान कई हथकंडे अपना रहा है। इनमें से एक है सिख आतंकियों को बढ़ावा देना। कुछ फोटोग्राफिक सबूत सामने आए हैं, जिनमें यह दिखाई दे रहा है कि पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेएएम) और जमात-उद-दाव भारत को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से सिख आतंकवादियों का समर्थन कर रहे हैं। लश्‍कर के प्रमुख हाफिज सईद को हाल ही में सिख आतंकी नेता गोपाल सिंह चावला के साथ लाहौर में देखा गया।

गोपाल सिंह चावला ने हाल ही में पाकिस्‍तान के इशारे पर भारतीय दूतावास के अधिकारी को बैसाखी के मौके पर गुरुद्वारा पंजा साहिब में जाने से रोका था। इससे पहले 12 अप्रैल को भारतीय दूतावास के अधिकारियों को भारत से आए सिख तीर्थयात्रियों से वाघा स्‍टेशन पर मिलने से रोका गया। भारत की सीमा पार करने के बाद पाकिस्‍तान में पहला रेलवे स्‍टेशन वाघा पड़ता है।

भारत ने पाक की इस हरकत पर आपत्ति जताई है। विदेश मंत्रालय ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी। विदेश मंत्रालय ने बताया, 'भारतीय राजनयिकों की टीम सिख यात्रियों से वाघा रेलवे स्टेशन पर 12 अप्रैल को पहुंचने के बाद भी नहीं मिल सकी। 14 अप्रैल को भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के साथ पाक में मौजूद भारतीय राजनयिकों की बैठक रखी गई थी, लेकिन यहां भी पाकिस्‍तान ने आपस में लोगों को नहीं मिलने दिया।

गौरतलब है कि 1800 सिख तीर्थयात्री गुरुवार को पाकिस्तान गए थे। ये सभी बैसाखी का त्योहार मनाने के लिए रावलपिंडी के गुरुद्वारा पंजा साहिब गए थे, जिसे सिख धर्म में खास स्थान मिला है। बता दें कि इससे पहले राजनयिकों की पाकिस्तान के क्लब में एंट्री को लेकर भी विवाद हुआ था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस