इस्लामाबाद, प्रेट्र। पाकिस्तान के एक पूर्व राजनयिक की बेटी की इस्लामाबाद में हत्या कर दी गई। इस्लामाबाद में अफगानिस्तान के राजदूत की बेटी के अपहरण और यातना देने को लेकर पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच पैदा हुए बड़े कूटनीतिक विवाद के बाद यह दूसरी बड़ी घटना हुई है।

पाकिस्तानी अखबार डान में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, शौकत मुकादम की 27 वर्षीया बेटी नूर मुकादम राजधानी के सेक्टर एफ-7/4 इलाके में मंगलवार को मृत पाई गई। शौकत मुकादम दक्षिण कोरिया और कजाखिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत रह चुके हैं। पुलिस के अनुसार, नूर की गोली मारकर हत्या की गई है। हत्या के सिलसिले में नूर के एक मित्र को गिरफ्तार किया गया है।

समा टीवी ने इस्लामाबाद पुलिस के हवाले से कहा है, 'जाहिर जफर नाम का एक व्यक्ति हत्या में संलिप्त था। उसे घटनास्थल से गिरफ्तार कर थाने लाया गया।'

यह हत्या पाकिस्तान में राजनयिक मिशन और इसके कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर मचे घमासान के बीच हुई है। 16 जुलाई को पाकिस्तान में अफगानिस्तान के राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की 26 वर्षीया बेटी सिलसिला अलीखिल को इस्लामाबाद में अगवा कर बुरी तरह प्रताड़ित किया गया। पिछले सप्ताह अफगानिस्तान के विदेश मंत्री ने एक बयान जारी कर इस घटना पर विरोध दर्ज कराया था। इस घटना को लेकर दोनों पड़ोसी मुल्कों के बीच कूटनीतिक विवाद पैदा हो गया। अमेरिकी और नाटो सैनिकों की वापसी के अंतिम चरण में पहुंच जाने के कारण दोनों देश तालिबान के फिर से सिर उठाने का सामना कर रहे हैं।

अफगान राजदूत की बेटी के अपहरण को पाक ने नहीं माना अपराध

इस्लामाबाद में अफगान राजदूत की बेटी के अपहरण को पाकिस्तान सरकार ने अपराध नहीं माना है। उलटा वह भारत और अफगानिस्तान पर ही साजिश रचने का आरोप लगा रहा है। इस मामले में पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद का एक अजीबो-गरीब बयान सामने आया है। उनका कहना है कि इस अपहरण कांड के पीछे अफगानिस्तान और भारत हैं। दोनों देश जान-बूझकर वारदात संबंधी तथ्यों को छिपा रहे हैं और उन्हें गलत तरीके से पेश कर रहे हैं। वहीं, अफगानिस्तान के विदेश मंत्री ने पाकिस्तानी मंत्री के इस बयान पर नाखुशी जाहिर की है।

यह भी पढ़ें : चीन में भारी बारिश में गई 33 लोगों की जान, आर्थिक स्थिति पर भी पड़ा असर; 75,000 हेक्टेयर फसलें तबाह