मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

इस्‍लामाबाद, रायटर्स।  पाकिस्‍तान में अपने सॉफ्ट पावर के जरिए चीन ने घुसपैठ तो की ही साथ ही इसे प्रोत्‍साहित करने में जुटा हुआ है। चाहे वह चीनी भाषा मंडारिन हो, चीनी फिल्‍में हो या कोई और सांस्‍कृतिक प्रोग्राम, इन सभी को पाकिस्‍तान में तवज्‍जो दी जा रही है। मंडारिन का प्रशिक्षण देने के लिये यहां कई कंफ्यूशियस संस्‍थान हैं। बता दें कि सॉफ्ट पॉवर की नीति के अंतर्गत विभिन्न देशों के बीच सहयोग को बढ़ावा दिया जाता है, जिससे यह संबंधों को मजबूत कर विकास में योगदान करती है।

पाकिस्‍तानी दुल्‍हे की चीनी दुल्‍हन

पाकिस्‍तान की राजधानी इस्‍लामाबाद में पाकिस्‍तानी टेलीविजन कार्पोरेशन मुख्‍यालय के छोटे से कार्यालय में प्रॉड्यूसर एक वीडियो प्रसारित करने की तैयारी कर रहे हैं। यह वीडियो पाकिस्‍तानी शख्‍स व उसकी चीनी दुल्‍हन के इंटरव्‍यू का है। वीडियो फुटेज में महिला पारंपरिक पाकिस्‍तानी परिधान में अपने पति के साथ बैठी है और धारा प्रवाह मंडारिन भाषा में बोलती हुई दिख रही है। दोनों देशों के बीच भाषा, संस्‍कृति व धर्म अलग होने के बावजूद प्‍यार का संदेश देता यह वीडियो काफी कुछ बयां कर रहा है।

सीपीइसी को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत  है चीन

60 बिलियन डॉलर वाले चाइना पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर(CPEC), को बढ़ावा देने के लिए सांस्‍कृतिक सॉफ्ट पावर बढ़ाने में चीन जुटा हुआ है। इस क्रम में पिछले कुछ सालों में चीन ने पीटीवी व अन्‍य कॉमर्शियल टेलीविजन चैनल को मुफ्त में कई डॉक्‍यूमेंट्री, ड्रामा व अन्‍य टेलीविजन प्रोग्रामिंग मुहैया कराया है। विशेषज्ञों का कहना है कि बेल्‍ट व रोड राष्‍ट्रों के नागरिकों का दिलो दिमाग जीतने के लिए चीन प्रयासरत है। इसके लिए वह भाषा, मीडिया व सोशल मीडिया कैंपेन का सहारा ले रहा है।

पाकिस्‍तान में चाइना रेडियो

पाकिस्‍तान में भी मौजूद चाइना रेडियो के को-आर्डिनेटर शेन जियांग ने कहा, ‘हमने अमेरिका, ब्रिटेन व अन्‍य पश्‍चिमी देशों के अनुभवों से सीखा है लेकिन अब दुनिया को चीन को समझने का समय है।’ रेडियो व टीवी के अलावा सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों के जरिए हम लोगों को चीन की सच्‍चाई बताना चाहते हैं कि चीन की हकीकत क्‍या है। अपने मंडारिन भाषा की प्रशिक्षण के लिए देश के समर्थन वाले संस्‍थान कनफ्यूशियस इंस्‍टीट्यूट का सहारा ले रहा है। पाकिस्‍तान में चार कनफ्यूशियस इंस्‍टीट्यूट हैं और दो नए खुलने वाले हैं।

चीनी कार्टून सीरीज का हुआ प्रसारण

इस साल के शुरुआत में पीटीवी वर्ल्‍ड ने अपना पहला चीनी कार्टून सीरीज ‘थ्री ड्रॉप्‍स ऑफ ब्‍लड’ प्रदर्शित किया था। इसका प्रीमियर पकिस्‍तान नेशनल काउंसिल ऑफ आर्ट्स में किया गया था जहां चीनी दूतावास ने चीनी सांस्कृतिक केंद्र के लिए बिल्‍डिंग का बड़ा हिस्‍सा किराए पर ले रखा है।

टीवी और फिल्‍म में हालिया निवेश प्रिंट मीडिया में चीन की रुचि के बाद किया गया है। 2017 में चीनी भाषा का पहला अखबार हुआशांग पाकिस्‍तान में लांच हुआ। इस अखबार की रीडरशिप साप्‍ताहिक तौर पर 60,000 से अधिक है। करीब 25,000 पाकिस्‍तानी अपने घर पर चीनी भाषा सीख रहे हैं व अन्‍य 22,000 पाकिस्‍तानी चीन में इस भाषा का प्रशिक्षण ले रहे हैं। चीनी भाषा का अस्‍तित्‍व पाकिस्‍तान में इतना अधिक हो गया है कि यह इंग्‍लिश को भी चुनौती दे रहा है। कुल मिलाकर पाकिस्‍तान में चीन की बढ़ती उपस्‍थिति स्‍पष्‍ट तौर पर देखी जा सकती है।

चीन व पाकिस्तान के संयुक्त बयान में जम्मू-कश्मीर के जिक्र पर भारत ने लगाई लताड़
जानें- चीन के उस टेलिस्‍कोप की खासियत जिसको मिल रहे हैं अंतरिक्ष से रहस्‍यमय सिग्‍नल

Posted By: Monika Minal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप