लंदन, एएनआइ। अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मानवाधिकार हनन की घटनाओं को लेकर पाकिस्तान की फजीहत जारी है। अब एक बलूच नेता ने पाकिस्‍तानी फौज द्वारा बलूचिस्‍तान में किए जा रहे बर्बर अत्‍याचारों की पोल खोली है। बलूच नेता मेहरान मारी ने मंगलवार को लंदन में कहा कि पाकिस्तानी सेना के जवान बलूचिस्‍तान में महिलाओं के साथ दुष्‍कर्म करते हैं और सरेआम बेगुनाह लोगों को गोलियों से छलनी कर देते हैं। पाकिस्‍तानी फौज बलूचिस्‍तान में उसी नीति पर अमल कर रही है जैसा कि उसने बांग्लादेश में अपने ऑपरेशन के दौरान किया था।      

उन्‍होंने कहा कि बीते एक महीने में पाकिस्‍तानी फौज के जवानों ने मरदान की एक महिला और दूसरी ग्वादर की महिला के साथ दुष्‍कर्म किया है। इसके लिए पाकिस्तानी सेना को दोषी ठहराया जाना चाहिए। चाहे पाकिस्‍तानी आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा हों, पर्वेज मुशर्रफ हों अथवा पाकिस्तानी सेना का कोई दूसरा अधिकारी सभी ने इंसानियत के खिलाफ अपराध किया है। इन सबके नेतृत्‍व में बेगुनाहों की जानें गई हैं।

ऐसा नहीं क‍ि मेहरान मारी पहले शख्‍स हैं जिन्‍होंने पाकिस्‍तानी फौज के अत्‍याचारों को उजागर किया है। पहले भी कई एक्टिविस्‍टों ने पाकिस्‍तानी आर्मी की पोल खोली है। अभी हाल ही में जिनेवा में चल रहे UNHRC की बैठक के दौरान बलूच मानवाधिकार परिषद के जनरल सेक्रेटरी समद बलूच ने कहा था कि बलोच लोगों ने पाकिस्‍तानी फौज के अनेक अत्‍याचारों को झेला है। पाकिस्‍तान ने हमारे सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक अधिकारों को नकार दिया है। पाकिस्तान ने बलूचिस्तान को सिर्फ लूटा है, हमारे संसाधनों को लूटा है। 

समद बलूच ने भी कहा था कि पाकिस्‍तानी फौज बलूचिस्तान में अल्पसंख्यकों का नरसंहार कर रही है। पाकिस्तान आतंकवादियों को पालता है। पाकिस्तानी सेना ना केवल हमारा बल्कि वो हमारे सिंधी भाइयों, पश्तूनों के नरसंहार में भी शामिल है। इससे पहले बलूच नेता मेहरान मारी ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया कि वह उइगर मुसलमानों के खिलाफ शिनजियांग प्रांत में अपने अपराध में भागीदार चीन द्वारा किए गए मानवाधिकारों के हनन की अनदेखी कर रहा है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप