इस्‍लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्‍तान की राजनीति में इन दिनों काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहे हैं। अब खबर है कि पाकिस्‍तान के पूर्व सैन्‍य शासक परवेज मुशर्रफ की राजनीति में वापसी होने जा रही है। मुशर्रफ के एक सहयोगी ने इसकी जानकारी दी है। वह पिछले लगभग एक साल से बिगड़ते स्‍वास्‍थ्‍य के कारण राजनीतिक गतिविधियों से दूर थे। बता दें कि 12 अक्टूबर 1999 को तत्कालीन पाक आर्मी चीफ जनरल परवेज मुशर्रफ ने नवाज शरीफ सरकार का तख्तापलट कर दिया था।

परवेज मुशर्रफ के लौटने से पाक प्रधानमंत्री इमरान खान की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। शीर्ष सहयोगियों के अनुसार, पूर्व सैन्‍य शासक ने 6 अक्टूबर को पाकिस्‍तान की राजनीति में लौटने की योजना बनाई है। मुशर्रफ मार्च 2016 से दुबई में रह रहे हैं। 76 साल के जनरल मुशर्रफ पर संविधान को निलंबित करने के लिए राजद्रोह के मामले का सामना करना पड़ रहा है, जिसके लिए उन्हें 2014 में दंडित किया गया था। पाकिस्‍तान में उच्च राजद्रोह के लिए एक दोषी को मृत्युदंड या आजीवन कारावास दिया जाता है।

ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (APML) के संस्थापक मुशर्रफ ने पिछले साल अपने बिगड़ते स्वास्थ्य के कारण राजनीतिक गतिविधियों से किनारा कर लिया था। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पार्टी के एक अधिकारी के हवाले से कहा कि मुशर्रफ अपनी हालत में सुधार के बाद वापसी की योजना बना रहे हैं। परिवार के अनुसार, पूर्व राष्ट्रपति पूरे शरीर में अंगों और ऊतकों में अमाइलॉइड नामक एक असामान्य प्रोटीन के निर्माण के कारण होने वाली दुर्लभ बीमारी एमाइलॉयडोसिस से पीड़ित हैं।

यह भी पढ़ें: मुशर्रफ के खिलाफ चलेगा देशद्रोह का मामला, 8 अक्टूबर से होगी रोजाना सुनवाई

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून से बात करते हुए एपीएमएल के महासचिव मेहरीन मलिक ने बताया कि पूर्व राष्ट्रपति ने पिछले महीने 12 दिनों तक लंदन के एक अस्पताल में इलाज कराया था। उन्‍होंने कहा, 'अब वह दुबई में अपने निवास पर बेहतर महसूस कर रहे हैं।' एपीएमएल के महासचिव ने कहा कि मुशर्रफ ने पार्टी के अधिकारियों के साथ एक बैठक भी की थी। मलिक ने कहा, 'वह डॉक्टरों के परामर्श से अपनी राजनीतिक गतिविधियों को पूरी तरह से फिर से शुरू करेंगे। हर दिन डॉक्टरों की एक टीम द्वारा उसकी जांच की जा रही है।'

मलिक ने बताया कि मुशर्रफ के निर्देश पर एपीएमएल पूरे पाकिस्तान में अपनी राजनीतिक गतिविधियों को फिर से शुरू कर रहा है। उन्‍होंने बताया, 'मुशर्रफ 6 अक्टूबर को वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से इस्लामाबाद में पार्टी के 9वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित करेंगे।' पार्टी अधिकारी ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति भी जल्द ही महत्वपूर्ण राजनीतिक घोषणाएं करेंगे। 1999 से 2008 तक पाकिस्तान पर राज करने वाले मुशर्रफ को बेनजीर भुट्टो की हत्या और लाल मस्जिद के मौलवी की हत्या के मामले में भगोड़ा घोषित किया गया है।

यह भी पढ़ें: कारगिल युद्ध के बाद दुनिया को था डर, कहीं नवाज का भी न हो पूर्व PM भुट्टो जैसा हाल

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप