काबुल, एएनआइ। तालिबान की वापसी के बाद अफगानिस्‍तान में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। दहशतगर्दों ने एकबार फिर खूनी खेल खेलना शुरू कर दिया है। नंगरहार प्रांत का जलालाबाद शहर आतंकी गतिविधियों का केंद्र बनता जा रहा है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने स्पुतनिक के हवाले से बताया कि नंगरहार प्रांत के जलालाबाद शहर में रविवार को एक बस स्टेशन पर बम धमाका हुआ जिसमें दो नागरिकों की मौत हो गई। एक प्रत्‍यक्षदर्शी ने बताया कि तालिबान को निशाना बना कर किए गए इस बम धमाके में एक तालिबान घायल भी हुआ है।

तालिबान को बनाया जा रहा निशाना

शनिवार को पूर्वी नंगरहार प्रांत के जलालाबाद शहर में तालिबान को निशाना बनाकर तीन बम धमाके किए गए जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई जबकि 21 घायल हो गए थे। ये बम धमाके तब हो रहे हैं जब तालिबान ने लोगों को उनके जीवन और संपत्ति की सुरक्षा का भरोसा दिया है।

बदतर हुए हालात

इस बीच पाकिस्तान में मौजूद संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी की हाई कमिश्नर फिलिपो ग्रांडी ने कहा है कि अफगानिस्तान में मानवीय स्थितियां बहुत ही खराब हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को तत्काल मदद के लिए आगे आना चाहिए।

डब्ल्यूएचओ ने भेजी दवाइयां

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार कतर के सहयोग से विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अफगानिस्तान में 8.7 मीट्रिक टन दवाई की मदद भेजी है। इसमें अधिकांश जीवन रक्षक दवाइयां हैं। यह विमान शनिवार को काबुल पहुंचा।

काबुल में बढ़ने लगे पेट्रोल-डीजल के दाम

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार काबुल और अफगानिस्तान के अन्य क्षेत्रों में तालिबान सरकार के आने के बाद तेल कंपनियों ने मनमानी शुरू कर दी है। ये कंपनियां कीमत से ज्यादा दाम वसूल रही हैं। जनता ने तालिबान सरकार से इन कंपनियों पर अंकुश लगाने की अपील की है।