इस्लामाबाद, एएनआई। पाकिस्तानी सेना के खिलाफ आवाज उठाने वाली वालीं पख्तून मानवाधिकार कार्यकर्ता गुलालाई इस्माइल इस समय पाकिस्तान के निशाने पर हैं। पाकिस्तान की एक अदालत ने गुलालाई के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार कोर्ट ने गुलालाई के खिलाफ यह गैर जमानती वारंट राष्ट्रीय संस्थाओं को बदनाम करने के एक मामले में जारी किया है। वहीं गुलालाई इस्माइल ने बुधवार को कहा कि उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करना पाकिस्तान की अदालत द्वारा देश की खुफिया एजेंसी आईएसआई को खुश करने के लिए किया गया काम है।

बता दें कि अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि अगर वह 21 अक्टूबर तक पेश नहीं होती हैं तो उन्हें भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया शुरू की जाए।

कोर्ट के इस आदेश पर पाकिस्तान के एक पत्रकार ने ट्वीट किया कि कोर्ट ने कार्यकर्ता गुलालाई इस्माइल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। यह अदालत ने नहीं किया है। पाक सेना यह चाहती है और हम सब जानते हैं कि न्याय व्यवस्था कितनी स्वतंत्र है। इस ट्वीट पर इस्माइल ने लिखा कि आईएसआई को खुश करने के लिए पाकिस्तान की अदालतें यही सब करती हैं।

पाक सेना के अत्याचारों को किया था उजागर

गुलालाई इस्माइल को पाकिस्तानी अधिकारियों ने इसलिए निशाने पर लिया है क्योंकि उन्होंने देश की सेना द्वारा किए जाने वाले अत्याचारों को उजागर किया था। उन पर पाकिस्तान ने राजद्रोह का आरोप लगाया गया था जिसके बाद वह भागकर अमेरिका पहुंच गईं। गुलालाई इस्माइल इस समय अपनी बहन के साथ ब्रूकलिन में रह रही हैं।

यह भी पढ़ेंः इमरान के दावे को इस पाकिस्तानी महिला ने किया खारिज, कहा- आतंकवाद के नाम पर हो रहा यह गंदा खेल

 

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप