कोलंबो,एएनआइ। श्रीलंका में जारी राजनीतिक संकट के बीच रानिल विक्रमसिंघे ने गुरुवार को देश के नागरिकों से लोकतंत्र और स्वतंत्रता के लिए लड़ाई जारी रखने का आग्रह किया है। कोलंबो पेज की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेन के तख्तापलट के अचानक निर्णय के विरोध में सड़क पर उतरे लोगों का शुक्रिया अदा किया।

विक्रमसिंघे ने कहा कि श्रीलंका में राजनीतिक संकट के 13 दिन बीत गए हैं। लेकिन इस काले समय में आप लोगों ने हार नहीं मानी है।

यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के नेता विक्रमसिंघे को 26 अक्टूबर को राष्ट्रपति सिरीसेन ने अचानक बर्खास्त करने के बाद उनकी जगह पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को प्रधानमंत्री बना दिया था। इसके बाद सिरीसेन ने 16 नवंबर तक देश की संसदीय कार्यवाही को निलंबित कर दिया था।

5 नवंबर को सिरीसेन ने राज्य के विधायकों द्वारा जल्द से जल्द देश में राजनीतिक संकट को समाप्त करने के लिए बढ़ती मांगों के बीच 14 नवंबर को श्रीलंकाई संसद सत्र बुलाने की घोषणा कर दी थी।

Posted By: Tanisk