सियोल/वाशिंगटन, रायटर। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने परमाणु निरस्त्रीकरण के मुद्दे पर चली आ रही बातचीत को जारी रखने के लिए शुक्रवार को प्‍योंगयांग में उत्‍तरी कोरियाई अधिकारियों से मुलाकात की। इस उम्‍मीद के साथ कि उन्‍हें उत्‍तर कोरिया में परमाणु निरस्‍त्रीकरण के मुद्दे पर कुछ महत्‍वपूर्ण सवालों के जवाब मिलेंगे।

पोंपियो ने प्‍योंगयांग में किम योंग चोल से मुलाकात की, जिन्‍होंने सिंगापुर में अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन के बीच पिछले महीने की शिखर सम्‍मेलन की व्‍यवस्‍था में उनके साथ महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अमेरिकी विदेश मंत्री के साथ यात्रा कर रहे पत्रकारों ने इस बात की जानकारी दी। बता दें कि भारत के साथ जुलाई में होने वाली 2+2 वार्ता को स्थगित करने की एकाएक घोषणा के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो उत्‍तर कोरिया पहुंचे हैं।

पोंपियो के साथ यात्रा कर रहे पत्रकारों की रिपोर्ट के मुताबिक, किम की पोंपियो के साथ वार्ता 'कुछ घंटों' तक चलने की उम्‍मीद थी। हालांकि ये अनिश्चित था कि वह किम जोंग-उन से मिलेंगे या नहीं। पोंपियो रात प्‍योंगयांग में ही बिताएंगे। यह पहला ऐसा मौका है, जब वह पूरी रात उत्‍तर कोरिया में बिताएंगे। एयरपोर्ट पर किम योंग चोल ने पोंपियो से कहा, 'आज की बैठक वास्‍तव में सार्थक है।' इसके जवाब में पोंपियो ने कहा, 'हां, मैं सहमत हूं। मैं इस बैठक का बेहद महत्‍वपूर्ण मानता हूं।' साथ ही पोंपियों ने उम्‍मीद जताई की परमाणु निरस्‍त्रीकरण से जुड़े सवालों के जवाब उन्‍हें मिलेंगे।

सिंगापुर शिखर सम्मेलन में किम जोंग-उन ने निरस्‍त्रीकरण की दिशा में काम करने के लिए व्यापक प्रतिबद्धता दिखाई। लेकिन उत्तरी कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को कैसे और कब तक खत्म किया जाएगा, इस बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई थी।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस