न्यूयॉर्क, एएनआइ। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने शुक्रवार (स्थानीय समय) में अल जज़ीरा के रिपोर्टर शिरीन अबू अक्लेह की हत्या और फ़िलिस्तीनी शहर जेनिन में एक अन्य पत्रकार के घायल होने की निंदा की और एक 'तत्काल, संपूर्ण, पारदर्शी और स्वतंत्र' जांच की मांग की है।

यूएनएससी ने एक बयान में कहा कि सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने भी पीड़ित परिवार के प्रति अपनी सहानुभूति और गहरी संवेदना व्यक्त की।

बयान में कहा गया, 'सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने उसकी हत्या की तत्काल, व्यापक, पारदर्शी और निष्पक्ष और न्यायोचित  जांच का आह्वान किया और जवाबदेही सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया।'

इसके अलावा, सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने दोहराया कि पत्रकारों को नागरिकों के रूप में संरक्षित किया जाना चाहिए। हालांकि, परिषद ने जोर देकर कहा कि वे स्थिति की बारीकी से निगरानी करना जारी रखेंगे।

सीएनएन के अनुसार, अल जज़ीरा पत्रकार की 11 मई को दुखद रूप से गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि अकले के साथ मौजूद एक अन्य पत्रकार अली अल समुदी को भी गोली मार दी गई थी।

इज़राइल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने पुष्टि की कि उसने उत्तरी वेस्ट बैंक में सशस्त्र फिलिस्तीनी समूहों के गढ़ जेनिन शरणार्थी शिविर में बुधवार तड़के एक अभियान चलाया था।

इज़राइल के पीएम ने लगाया फलस्‍तीन पर मौत का आरोप 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इज़राइल के प्रधान मंत्री, नफ़ताली बेनेट ने कहा कि तेल अवीव ने यह सुझाव देते हुए जानकारी एकत्र की है कि उस समय अंधाधुंध गोलीबारी करने वाले फिलिस्तीनी पत्रकार की मौत के लिए जिम्मेदार थे।

गौरतलब है कि बीते कुछ महीने से इस सीमा पर तनाव का काफी बढ़ गया है। 22 मार्च से अब तक यहां पर 18 लोग मारे जा चुके हैं। इनमें अरब-इजरायल पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं। इसके अलावा मारे जाने वालों में दो यूक्रेन नागरिक भी शामिल हैं। इजरायली आर्मी ने आरोप लगाया है कि कुछ हाल के कुछ समय में जेनिन कैंप में रहने वालों पर हमले बढ़ रहे हैं।

Edited By: Babli Kumari