मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संयुक्त राष्ट्र (एजेंसी)। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी के फर्जी फोटो दिखाने पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष मिरोस्लाव लैजेक ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि फोटो के फर्जीवाड़े के लिए संयुक्त राष्ट्र के मंच का दुरुपयोग रोकने के लिए सुझाव मांगे जाएंगे। संयुक्त राष्ट्र में भारत को बदनाम करने की साजिश के तहत पाकिस्तानी कदम पर लैजेक ने कहा कि इस मामले पर क्या कार्रवाई की जाए वह विचार करेंगे।

लैजेक से बुधवार को संवाददाताओं ने पूछा कि जब लोग फर्जी फोटोग्राफ का दुरुपयोग करते हैं तो संयुक्त राष्ट्र इस गलत व्यवहार पर क्या कार्रवाई करेगा? जवाब में लैजेक ने कहा कि मैं इस बारे में निश्चित रूप से विचार करूंगा। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यह कूटनीतिक मामला है। इसका जवाब मैं नहीं दे सकता। यह जवाब उन प्रतिनिधियों को देना चाहिए जो इस मामले में शामिल थे। उन्होंने कहा कि वह इस मामले में अपने पद का दुरुपयोग नहीं कर सकते। हम संयुक्त राष्ट्र महासभा का अध्यक्ष होने के नाते इस अवसर का सदुपयोग कर सकते हैं, लेकिन दुरुपयोग नहीं कर सकते।

यह था मामला

विगत शनिवार को संयुक्त राष्ट्र के स्थायी सदस्य पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा ने एक फोटो दिखाकर गाजा की घायल लड़की को कश्मीर की पैलेट गन की शिकार लड़की बताया था। मलीहा ने यह झूठा बयान भी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पाकिस्तान के खिलाफ जबरदस्त भाषण के कई घंटे बाद 'राइट टु रिप्लाई' के तहत दिया था। लोधी ने तब दावा किया था कि भारतीय लोकतंत्र का यही चेहरा है।

फलस्तीनी लड़की का था फोटो

इजरायली हमले में घायल हुई गाजा की 17 वर्षीय राव्या अबू जोमा का कई साल पुराना फोटो दिखाया गया था। वह 2014 में इजरायल के हमले में घायल हो गई थी। राव्या के घर पर बमबारी हुई थी जिसमें उसके तीन चचेरे भाइयों और उसकी बहन की मौत हो गई थी। फोटो में राव्या के पूरे चेहरे पर चोट के निशान थे। अमेरिकी फोटो पत्रकार हैदी लेवाइन को इसी फोटो के लिए 2014 में सम्मानित भी किया गया था।

यह भी पढ़ें: कश्मीर पर पाकिस्तान के सामने अब रास्ता नहीं, फरेबी फोटो नहीं आई काम

 यह भी पढ़ें: बौखलाए पाकिस्तान को मिला मोदी विरोधियों के बयानों का सहारा

Posted By: Kishor Joshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप