चियांग राई(एएफपी)।  थाम लुआंग गुफा में फंसे वाइल्ड बोअर्स टीम के बच्चों और उनके कोच को सुरक्षित निकालने के लिए जो ऑपरेशन चलाया गया, उसके आखिरी चरण में एक हादसा होते-होते बचा। हुआ यूं कि मंगलवार शाम को जब आखिरी चार बच्चों और उनके कोच को निकाल लिया गया, उसी समय वाटर पंपों ने काम करना बंद कर दिया। उस समय 20 गोताखोर गुफा के अंदर ही फंसे हुए थे।

थाइलैंड नेवी सील के पूर्व कमांडर चैयानंत पीरानारोंग बताते हैं कि ऑपरेशन खत्म कर वे वहां से जाने ही वाले थे कि अचानक अलार्म बजने लगा। दरअसल, एक हिस्से में वाटर पंप ने काम करना बंद कर दिया था। उससे दो चैंबरों का पानी निकाला जा रहा था। उस समय 20 गोताखोर गुफा के अंदर फंसे हुए थे। उनके पास डाइविंग गियर भी नहीं था। उस हिस्से पर नजर रख रहे ऑस्ट्रेलियाई विशेषज्ञ ने जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया कि वाटर पंप फेल हो गया है।

पीरानारोंग ने कहा कि ऐसे में राहत अभियान दल के सामने एक ही रास्ता होता है कि फंसे लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ निकाला जाए। जब आखिरी गोताखोर बाहर निकला, उस समय तक गुफा में पानी सिर तक पहुंच चुका था।

Posted By: Jagran News Network