फिलिप्सबर्ग, ऑनलाइन डेस्क। देश से लेकर विदेश तक बंदर बहुत बड़ी संख्या में पाए जाते है। बंदर स्वाभाव से बहुत ही शरारती होते हैं। इसलिए वह आम लोगों के लिए परेशानियों का कारण बन जाते हैं। कैरिबियाई देश में वर्वेट बंदरों से आम लोग काफी परेशान हैं। जिसे देखते हुए कैरिबियाई देश सिंट मार्टेन ने अपने यहां मौजूद वर्वेट बंदरों की पूरी जनसंख्या को खत्म करने का फैसला लिया है। सरकार के इस फैसले के बाद वहां पर वन्यजीव प्रेमियों ने इसका विरोध भी किया था। सरकार ने वर्वेट बंदरों को खत्म करने के लिए एक एनजीओ का चयन किया है। यह एनजीओ वर्वेट बंदरों की पूरी आबादी को खत्म कर देगी।

बंदरों के उपद्रव से परेशान थे किसान

द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक कैरिबियाई देश सिंट मार्टेन के स्थानीय लोग वहां के वर्वेट बंदरों से बेहद ही परेशान हो गए थे। सिंट मार्टेन के किसानों ने बंदरों के उपद्रव की शिकायत की थी। किसानों का कहना है कि बंदर अक्सर उनकी फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं। इसके कारण ही उनकी अजीविक प्रभावित हो रही है। वह सभी बंदरों के उपद्रव से काफी परेशान हो कर सरकार से शिकायत कर दी थी।

3 साल के अंदर एनजीओ खत्म करेगी वर्वेट बंदरों की आबादी

सिंट मार्टेन की सरकार ने बंदरों की शिकायत मिलने के बाद उनको मारने के फैसले को ही उचित समझा। वर्वेट बंदरों को मारने के लिए वहां के एनजीओ नेचर फाउंडेशन सेंट मार्टेन का चयन किया है। सरकार ने यह काम करने के लिए एनजीओ को तीन साल का समय दिया है। इसलिए एनजीओ बंदरों को पकड़कर उन्हें मारने का काम करेगी। हालांकि बंदरों को मारने का काम इस तरह किया जाएगा जिससे बंदरों को दर्द न पहुंचे।

यह भी पढ़े- Fact Check: धीरेंद्र शास्त्री को Z+ सिक्योरिटी दिए जाने का बीबीसी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट फेक है

कैरिबियाई मूल के नहीं है वर्वेट बंदर

नेचर फाउंडेशन के प्रबंधक लेस्‍की हिकर्सन ने कहा कि जब एक प्रजाति ऐसे क्षेत्र में अपनी आबादी को बढ़ा रही होती है। जहां की वह मूल प्रजाति नहीं होती है, तो उसे संरक्षित करना चाहिए। वर्वेट बंदर कैरेबियाई मूल का नहीं है। ऐसे में यहां बंदरों की आबादी को नियंत्रित किया जा सकता है। इस प्रजाति के बंदरों को 17 वीं शताब्‍दी में कैरेबियाई देश में लाया गया था। वन्यजीव प्रेमियों ने सरकार के इस कदम का विरोध जताया है। उन्होंने कहा कि जानवरों को मारने के बजाय स्टरलाइजेशन या फिर न्यूट्रिंग कर बंदरों की जनसंख्या को नियंत्रित किया जा सकता है।

यह भी पढ़े- अमेरिका में तीन नकाबपोशों ने भारतीय व्यक्ति की गोली मारकर की हत्या, परिवार के अन्य सदस्य घायल

Edited By: Preeti Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट