बेरुत (एपी)। इराक में कुख्यात आतंकी समूह आईएस को इराक और सीरिया के बड़े हिस्सों में 96 प्रतिशत से हिस्से का प्रादेशिक घाटा हुआ है। अमेरिकी राजदूत ब्रेट मैकगर्क ने ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही आईएस अपने विनाश का सामना कर रहा है। चूंकि सीरिया और इराक सरकार लगातार इनके इलाकों पर अपना शिकंजा कसता जा रहा है।

इराक में आतंकियों का आखिरी महत्वपूर्ण शहरी क्षेत्र रक्का है जहां वे अपने अंतिम चरण के लिए लड़ रहे हैं। इन इलाकों में उन्होंने अपने बुनियादी ढांचे, संसाधनों और लगभग 8 मिलियन लोगों पर नियंत्रण खो दिया है। यहां के चरमपंथी समूह अब एक गुप्त आतंकवाद का रुप ले सकता है जो बड़ी चुनौती साबित हो सकता है। बता दें कि, अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में यहां आतंकरोधी अभियान शुरु किया गया था। गौरतलब है कि, आईएस आतंकी ईफ्रेट्स नदी का इस्तेमाल अपने लड़ाकों और हथियारों को एक देश से दूसरे देशों तक भेजने के लिए करते थे।

सीरियाई सरकार ने कहा है कि उसने डीर एल-ज़ोर इलाके पर भी पूरा नियंत्रण पा लिया है, जहां करीब तीन साल तक इन आतंकियों ने उसके सैनिकों और कई नागरिकों को बंदी बना रखा था। सीरिया की सेना के प्रवक्ता जनरल अली मेहौब ने इसे सीरिया की बड़ी रणनीतिक जीत बताया। 17 अक्टूबर को शुरु किए गए आतंकरोधी अभियान में आईएस के प्रमुख शहर रक्का भी निशाना बनाया गया।बता दें कि यह शहर इन आतंकियों के मीडिया संचालन का केंद्र भी था। यूरोप के 2015 में पेरिस और 2016 में ब्रशेल्स जैसी बड़ी हिंसा की योजना को यहां अंजाम दिया जाता था। हाल ही में 14 अक्टूबर को, सीरियाई सरकार और उसके सैनिकों ने मिलकर उनके शहर मायादेन पर भी कब्ज़ा कर लिया जो तेल के लिए समृद्ध इलाका था।  

यह भी पढ़ें : रूस ने फिर से दी ईरान-भारत गैस पाइपलाइन को हवा

Posted By: Srishti Verma