कोलंबो, पीटीआई। Sri lanka Serial Blasts श्रीलंका के सेनाध्‍यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल महेश सेना नायक (Lieutenant General Mahesh Senanayake) ने कहा है कि ईस्‍टर संडे के मौके पर देश में हुए सिलसिलेवार आतंकी हमलों को अंजाम देने वाले कुछ आत्‍मघाती हमलावरों ने 'कुछ प्रकार के प्रशिक्षण' या अन्‍य विदेशी संगठनों के साथ 'संबंध' बनाने के लिए कश्‍मीर और केरल का दौरा किया था। ऐसा पहली बार है जब श्रीलंका के शीर्ष सुरक्षा अधिकारी ने इस बात की तस्‍दीक की है कि श्रीलंकाई चर्चों पर हमलों को अंजाम देने वाले कुछ गुनहगारों ने भारत का दौरा किया था।

एक साक्षात्‍कार में कमांडर ऑफ आर्मी महेश सेनानायके ने कहा कि क्षेत्र में संदिग्‍धों की गतिविधियों और इनके इंटरनेशनल लिंक्‍स को लेकर कुछ जानकारी हमारे पास आई है। हमलों को अंजाम देने वाले आतंकियों में से कुछ ने भारत का दौरा किया था। इन संदिग्‍धों ने कश्‍मीर, बेंगलूरू और केरल की यात्रा की थी। उन्‍होंने कहा कि मैं बिल्‍कुल सटीक तो नहीं बता सकता लेकिन इन संदिग्‍धों ने कुछ प्रशिक्षण (some sorts of training) लेने के लिए या विदेशी संगठनों से संपर्क बढ़ाने के लिए यह दौरा किया था। 

इन हमलों में किसी विदेशी समूह के शामिल होने की संभावना के बारे में सेनानायके ने कहा कि संदिग्‍धों ने जिन जगहों की यात्रा की और हमलों के पैटर्न को देखकर लग रहा है कि किसी बाहरी लीडरशिप ने इन्‍हें निर्देशित किया था। यह पूछे जाने पर कि भारत की ओर से इन हमलों की बाबत दी गई पूर्व सूचना को गंभीरता से क्‍यों नहीं लिया गया... इस पर शीर्ष सैन्‍य कमांडर ने तालमेल की कमी का हवाला दिया। गौरतलब है कि श्रीलंका में हुए हमलों की आईएस ने जिम्‍मेदारी ले ली है लेकिन स्‍थानीय चरमपंथी समूहों को इसके लिए जिम्‍मेदार ठहराया है।  

बता दें कि बीते 21 अप्रैल को एक महिला समेत नौ आत्‍मघाती हमलावरों ने श्रीलंका में तीन होटलों और तीन चर्चों को निशाना बनाकर सिलसिलेवार बम धमाकों को अंजाम दिया था जिसमें 253 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 500 अन्‍य गंभीर रूप से घायल हो गए थे। हाल ही में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) से जुड़े एक संदिग्ध आतंकी को केरल से गिरफ्तार किया था जबकि दो संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि श्रीलंका में आतंकी हमले के मास्टरमाइंड जहरान हाशिम से इन लोगों के संपर्क के सुबूत मिले हैं, जिसकी गहराई से जांच हो रही है।

उल्‍लेखनीय है कि श्रीलंका में बम विस्फोटों को लेकर भारत ने पहले ही आगाह किया था। भारत की ओर से यह चेतावनी हमले के दस दिन पहले ही दी गई थी। भारत ने ना सिर्फ आत्मघाती हमलों के बारे में सूचित किया था, बल्कि इस हमले को अंजाम देने वाले समूह, उसके नेता और कुछ अन्य शामिल सदस्यों के बारे में भी बताया था। भारत द्वारा जारी इस तीन पेज की एडवाइजरी में आतंकी समूह का नेशनल थोहेथ जमात ( National Thowheeth Jama'ath) का नाम भी बताया गया था। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस