सियोल, रायटर। दक्षिण कोरिया में कोरोना महामारी का केंद्र बने देगू शहर में करीब दो माह बाद पहली बार कोई नया मामला सामने नहीं आया है। साथ ही देशभर में नए मामलों में रिकॉर्ड कमी दर्ज की गई है। महामारी के शुरुआती दौर में चीन के बाद संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले दक्षिण कोरिया में ही सामने आए थे। गत फरवरी में देगू के एक चर्च से ही दक्षिण कोरिया में संक्रमण की शुरुआत हुई थी और बाद में यह महामारी पूरे देश में फैल गई। देश के कुल 10,450 मामलों में से 6,807 देगू में ही पाए गए थे।

दक्षिण कोरिया के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार, शुक्रवार को देश में 27 नए मामलों की पुष्टि हुई। यह संख्या भी रोजाना के नए मामलों में सबसे कम है। फरवरी के अंत में यहां हर दिन 900 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे थे। देश में हुई कुल 208 मौतों में से 142 अकेले देगू में हुई हैं। देगू राजधानी सियोल से करीब 300 किलोमीटर दूर है। दक्षिण कोरिया में उठाए गए सख्त कदमों के चलते कोरोना वायरस पर अंकुश पाने में काफी सफलता मिली है। संक्रमण की रोकथाम के लिए बड़े पैमाने पर लोगों की जांच की गई और सोशल डिस्टेंसिंग के उपाए अपनाए गए।

कोरोना रोगियों से पहले कराया गया मतदान

महामारी के प्रकोप के बीच दक्षिण कोरिया में 15 अप्रैल को होने वाले संसदीय चुनाव से पहले शुक्रवार को कोरोना संक्रमितों से मतदान कराया गया। तीन हजार से ज्यादा कोरोना रोगियों और 900 चिकित्सा कर्मियों के लिए आठ मतदान केंद्र बनाए गए थे। चुनाव में हर वोटर के मताधिकार को सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया।

विदेशियों के लिए और सख्‍ती पर विचार 

इससे पहले आई खबरों में बताया गया है कि दक्षिण कोरिया ने विदेशों से आयातित संक्रमण के मामलों को धीमा करने के लिए प्रवेश नियमों को कड़ा करने की योजना बनाई है। दक्षिण कोरिया के प्रधानमंत्री चुंग सिय-क्यूएन की मानें तो सरकार देश में बिना वीजा के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में है। यही नहीं गैर जरूरी यात्रा करने वाले विदेशियों के आने पर भी रोक लगाई जाएगी।  

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस