इस्‍लामाबाद, प्रेट्र। सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान (Prince Faisal Bin Farhan) गुरुवार को एक दिन के लिए पाकिस्‍तान दौरे पर हैं। इस दौरान वे प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) व अपने पाकिस्‍तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) से मुलाकात करेंगे।

बता दें कि पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के 18-20 दिसंबर तक मलेशिया (Malaysia) में होने वाले कुआलालंपुर समिट (Kuala Lumpur) में हिस्‍सा लेने पर रियाध (Riyadh) ने नाराजगी जताई थी जिसके बाद खान ने अपना फैसला वापस ले लिया। लेकिन इसके कारण प्रधानमंत्री इमरान खान को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। उन्‍हें अपने देश पाकिस्‍तान के साथ-साथ अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर भी निंदा झेलनी पड़ रही है। बता दें कि इस समिट का आयोजन मुस्लिम नेताओं और बुद्धिजीवियों को मंच प्रदान करने के तहत किया गया है जहां वे अपने विचारों का आदान-प्रदान कर सके और मुस्लिम देशों को प्रभावित करने वाले विभिन्‍न मुद्दों पर चर्चा कर सकें।

इससे पहले 20 दिसंबर को विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता आयशा फारुकी (Ayesha Farooqui) ने जानकारी दी थी कि पाकिस्‍तान कुआलांलपुर समिट में हिस्‍सा नहीं लेगा। समिट में शामिल होने की वजह पाकिस्‍तान सरकार की ओर से यह बताई गई कि इस्‍लामाबाद इन मामलों में अपनी तटस्‍थता बरकरार रखना चाहता है।

इमरान खान ने मलेशियाई प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्‍मद (Mahathir Mohammad)  के आमंत्रण को स्‍वीकार कर लिया था। लेकिन सऊदी की ओर से दबाव की वजह से इस सम्‍मेलन में शामिल होने से मुकर गए। सऊदी अरब अपने उस समर्थन को कभी नहीं खोना चाहता जो उसे पाकिस्‍तान में मिलता है। सऊदी विदेश मंत्री प्रिंस फैसल (Prince Faisal) के इस्‍लामाबाद दौरे से यही मायने लगाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: एक साल से भी कम समय में सऊदी अरब में तीसरी बार नए विदेश मंत्री की हुई नियुक्ति

यह भी पढ़ें: इमरान पर भारी पड़ा सऊदी अरब का दबाव और मलेशिया सम्‍मेलन में जाने से करनी पड़ी 'तौबा'

 

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस