खेरसॉन, एपी। रूस द्वारा फरवरी में यूक्रेन पर आक्रमण करने के कुछ घंटों बाद खेरसॉन में एक बच्चों के अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मचारियों ने गुप्त रूप से योजना बनानी शुरू कर दी कि नवजात बच्चों को कैसे बचाया जाए। इन कर्मचारियों को रूसियों पर अनाथ बच्चों को जब्त करने और उन्हें रूस भेजने का संदेह था, इसलिए खेरसॉन शहर में बच्चों के क्षेत्रीय अस्पताल के कर्मचारियों ने अनाथों के मेडिकल रिकॉर्ड को तोड़-मरोड़ कर पेश करना शुरू कर दिया, ताकि ऐसा लगे कि वे हिलने-डुलने में बहुत बीमार हैं।

'हम किसी भी कीमत पर बच्चों को बचाएंगे'

इंटेंसिव केयर के प्रमुख डॉ. ओल्गा पिलियारस्का ने कहा, 'हमने जानबूझकर गलत सूचना लिखी कि बच्चे बीमार हैं और उन्हें ले जाया नहीं जा सकता है। हम डरे हुए थे कि वे (रूसी) पता लगा लेंगे... (लेकिन) हमने फैसला किया कि हम किसी भी कीमत पर बच्चों को बचाएंगे।'

रूसियों पर लगे गंभीर आरोप

पूरे युद्ध के दौरान रूसियों पर यूक्रेनी बच्चों को रूस या रूस के कब्जे वाले क्षेत्रों में उन्हें अपने रूप में पालने के लिए निर्वासित करने का आरोप लगाया गया है। स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि खेरसॉन क्षेत्र में रूस के आठ महीने के कब्जे के दौरान कम से कम 1,000 बच्चों को स्कूलों और अनाथालयों से जब्त किया गया था। उनका ठिकाना अभी भी अज्ञात है। वहीं, स्थानीय लोगों का कहना है कि और भी बच्चे लापता हो गए होते, अगर समुदाय के कुछ लोगों ने अपनी जान जोखिम में डालकर ज्यादा से ज्यादा बच्चों को छिपाने का प्रयास नहीं किया होता।

यूक्रेनी बच्चों से रूसी अधिकारियों ने बोला झूठ

इस साल की शुरुआत में एसोसिएटेड प्रेस (AP) ने बताया कि रूस हजारों यूक्रेनी बच्चों को रूसी परिवारों को पालक देखभाल या गोद लेने के लिए देने की कोशिश कर रहा है। एपी ने पाया कि अधिकारियों ने यूक्रेनी बच्चों को बिना सहमति के रूस या रूसी-अधिकृत क्षेत्रों में भेज दिया है और उनसे झूठ बोला कि उन्हें उनके माता-पिता नहीं चाहते थे।

बच्चों को निर्वासित कर रहे रूसी अधिकारी

वाशिंगटन स्थित थिंक टैंक इंस्टीट्यूट फॉर द स्टडी ऑफ वॉर का कहना है कि रूसी अधिकारी यूक्रेन के कब्जे वाले हिस्सों में एक जानबूझकर वंचित अभियान चला रहे हैं और चिकित्सा पुनर्वास योजनाओं और गोद लेने के कार्यक्रमों की आड़ में बच्चों को निर्वासित कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Russia Ukraine Conflict: इस साल के अंत तक रूस गवां देगा करीब 1 लाख सैनिक, जेलेन्‍सकी ने किया दावा

रूसी अधिकारियों ने दी सफाई

रूसी अधिकारियों ने बार-बार कहा है कि बच्चों को रूस ले जाने का उद्देश्य उन्हें शत्रुता से बचाना है। रूसी विदेश मंत्रालय ने इन दावों को खारिज कर दिया है कि देश बच्चों को जब्त कर रहा है और निर्वासित कर रहा है। यह नोट किया गया है कि अधिकारी यूक्रेन में छोड़े गए अनाथ बच्चों के रिश्तेदारों की तलाश कर रहे हैं ताकि जब संभव हो तो उन्हें घर भेजने के अवसर मिल सकें।

ये भी पढ़ें:

WHO की रिपोर्टः इंटरनेट के जरिए बच्चों का यौन शोषण करने वालों में ज्यादातर उनके परिचित, जानिए बचाव के उपाय

Fact Check: गंदे ड्रेसिंग रूम की ये तस्वीरें FIFA 2022 में कोस्टा रिका मैच के बाद जापानी ड्रेसिंग रूम की नहीं हैं

Edited By: Achyut Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट