कीव, रायटर। महीनों चली भीषण लड़ाई के बाद रूस ने मंगलवार को यूक्रेनी सेना के गढ़ मारीपोल पर कब्जा कर लिया। शहर का नियंत्रण अपने हाथों में लेने के बाद रूस ने सैकड़ों यूक्रेनी सैनिकों को अपने कब्जे वाले शहरों में भेज दिया है। इसे यूक्रेन की बड़ी हार माना जा रहा है। साथ ही महीनों से चल रहे युद्ध की समाप्ति की उम्मीद भी लगाई जा रही है। लंबे समय से रूस की भीषण बमबारी का सामना कर रहा मारीपोल अब लगभग मलबे में तब्दील हो चुका है। यूक्रेन का दावा है कि शहर के हजारों लोग इस युद्ध में मारे गए हैं। इस बीच, जर्मनी के चांसलर ओलाफ शुल्ज ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से फोन पर बात कर सैन्य व मानवीय स्थिति की जानकारी ली।

रूस ने मारीपोल में 250 से ज्यादा यूक्रेनी सैनिकों द्वारा समर्पण किए जाने का दावा किया है। दूसरी तरफ, यूक्रेनी सेना के जनरल स्टाफ ने एक बयान में कहा, 'मारीपोल का गढ़ अपने युद्ध अभियान को पूरा कर चुका है। शीर्ष सैन्य नेतृत्व ने यूनिट कमांडरों को सैनिकों के जीवन की रक्षा करने का आदेश दिया है.. मारीपोल के रक्षक हमारे समय से हीरो हैं।' उप रक्षा मंत्री अन्ना मल्यार ने बताया कि 53 घायल सैनिकों को रूस के कब्जे वाले नोवोआजोवस्क, जबकि 211 लोगों को रूस समर्थित ओलेनिवका ले जाया गया है। इनकी रूसी सैनिकों के साथ अदला-बदली होगी। यूक्रेनी सेना ने कहा कि स्टील प्लांट में करीब 600 सैनिकों मौजूद थे।

राष्ट्रपति जेलेंस्की ने एक संबोधन में कहा, 'हमें उम्मीद है कि हम अपने योद्धाओं को बचाने में कामयाब होंगे। उनमें से कई गंभीर रूप से घायल हैं, जिनकी देखभाल की जा रही है। यूक्रेन अपने नायकों को जीवित रखना चाहता है।'

इस बीच, पश्चिमी सैन्य सूत्रों ने कहा है कि पुतिन इस युद्ध में काफी गहरे रूप से संलिप्त हो चुके हैं। वह किसी कर्नल या ब्रिगेडियर की तरह अभियान व युद्ध तकनीक के संबंध में निर्णय ले रहे हैं। रूस ने आरोप लगाया है कि दुनिया की सात बड़ी आर्थिक शक्तियां (जी-7) रूस के विदेशी मुद्रा भंडार को जब्त कर यूक्रेन के नाम पर उसका इस्तेमाल कर रही हैं।

भीषण बमबारी से थर्राया लवीव 

एपी के अनुसार, रूस ने यूक्रेन के पश्चिमी शहर लवीव पर भीषण बमबारी की है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि शहर में कम से कम आठ भीषण धमाके हुए हैं। आग की ऊंची लपटें भी देखी गईं। शहर में सुबह छह से रात 11 बजे तक कर्फ्यू लागू है। लवीव क्षेत्रीय सैन्य प्रशासन ने कहा कि रूस ने यावोरिव जिले स्थित सैन्य ठिकाने को भी निशाना बनाया है।

हंगरी के पीएम का रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध के समर्थन से इन्कार

यूरोपीय संघ के नेता जहां रूसी तेल के आयात पर प्रतिबंध लगाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, वहीं हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टर ओर्बन ने साफ किया है कि वह ऐसे किसी भी कदम का समर्थन नहीं करेंगे, जो उनके देश की ऊर्जा सुरक्षा पर नकारात्मक प्रभाव डालेगा। इस बीच, यूरोपीय संघ ने नया नियम जारी कते हुए कहा कि रूस से वैधानिक तरीके से तेल का आयात किया जा सकता है, लेकिन उसके साथ रूबल में लेनदेन प्रतिबंधों का उल्लंघन होगा।

वेटिकन के मंत्री जाएंगे यूक्रेन

रूस से वार्ता के विकल्प को खुला रखने के प्रयासों के तहत वेटिकन के विदेश मंत्री आर्कबिशप पाल गैलाघेर बुधवार को यूक्रेन पहुंचेंगे। वह शुक्रवार को यूक्रेन के विदेश मंत्री दमित्रो कुलेबा से मुलाकात करेंगे।

यूरोप पर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप

इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रास व रेड क्रेसेंट सोसायटीज के अध्यक्ष फ्रांसेस्को रोक्का ने यूरोप पर शरणार्थियों को आश्रय देने के मामले में दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन के डोनाबास या नाईजीरिया के किसी शरणार्थी में कोई अंतर नहीं होना चाहिए।

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan