यंगून, एएफपी। म्यांमार में आंग सांग सू की के पिता आंग सान की मूर्ति का विरोध कर रहे हजारों लोगों पर पुलिस ने रबड़ की गोलियां बरसाईं है। हिंसक प्रदर्शन में कम से कम दस लोग घायल हो गए हैं। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे मायो हलिंग विन ने बताया कि हम लोग शांतिपूर्वक विरोध जता रहे थे लेकिन पुलिस ने निहत्थे लोगों पर हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि कई प्रदर्शनकारियों को गंभीर चोटें आयी हैं। विन ने कहा कि पुलिस को ऐसी कार्रवाई नहीं करनी चाहिए थी।

ये है विवाद की जड़ 
दरअसल काया राज्य की राजधानी में आंग सांग सू की के पिता आंग सान की कांस्य की मूर्ति लगी है जो कि एक घोड़े पर बैठे हुए हैं। लोग इसी मूर्ति का विरोध कर रहे हैं। भारी विरोध के बीच पिछले महीने ही आंग सान की प्रतिमा का अनावरण भी कर दिया गया था। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि हम देश के नायकों की मूर्ति लगाना चाहते हैं न कि सत्ता पक्ष के किसी नेता के पिता की।

अब तक 80 से ज्यादा गिरफ्तार
पिछले साल जुलाई से लेकर अब तक 80 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। 80 लोगों में से ज्यादातर हाल में ही गिरफ्तार किए गए हैं। बताया जा रहा है कि गिरफ्तार किए लोग अगर दोषी पाये जाते हैं तो उन्हें छह महीने की सजा हो सकती है, जबकि प्रदर्शनकारियों के नेताओं को दो वर्ष तक कैद की सजा सुनाई जा सकती है।

कौन हैं आंग सान ?
आंग सान को स्वतंत्र म्यांमार का संस्थापक माना जाता है। उन्होंने ब्रिटिश शासन से लड़ाई लड़ कर देश को आजाद कराने में अहम भूमिका निभाई थी। हालांकि उन पर अल्संख्यक सैकड़ों समुदाय लोगों की हत्या का आरोप है। लोगों का कहना है कि मानवाधिकार उल्लंघन के किसी भी दोषी की मूर्ति नहीं लगाई जानी चाहिए।

 

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप