ब्यूनस आयर्स, प्रेट्र/एएफपी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने गुरुवार को अर्जेटीना पहुंचे। जहां वह देश और दुनिया के सामने अगले दशक में आने वाली चुनौतियों से निपटने के तौर-तरीकों पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समेत जी-20 के नेताओं के साथ चर्चा करेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर बताया, 'प्रधानमंत्री 24 घंटे की लंबी यात्रा के बाद ब्यूनस आयर्स पहुंच गए हैं।

सम्मेलन से पहले पीएम मोदी ने योग कार्यक्रम में शिरकत की। इसके अलावा उन्होंने सउदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान और संयुक्त राष्ट्र महासचिव से भी मुलाकात की। मोदी ने ब्यूनस आयर्स में आयोजित 'शांति के लिए योग' कार्यक्रम में भाग लिया। इस दौरान सैंकड़ों लोगों ने योग कला का प्रदर्शन किया। इस दौरान संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर इंसान के मन में शांति होगी तो परिवार, समाज और देश में भी शांति होगी। उन्होंने कहा कि योग, विश्व को भारत की ओर से स्वास्थ्य और शांति का तोहफा है।

G-20 सम्मेलन के लाइव अपडेट्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सउदी प्रिंस से मुलाकात
योग कार्यक्रम के अलावा पीएम मोदी ने सउदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से द्विपक्षीय वार्ता की। इसके अतिरिक्त पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ महासचिव एंटोनियो गुटेरस से भी मुलाकात की। 
PM Modi at Yoga for Peace in Argentina for G 20 Summit

आज से शुरू हो रहा सम्मेलन
दुनिया के 20 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों के समूह जी-20 का 13वां शिखर सम्मेलन 30 नवंबर और एक दिसंबर को हो रहा है। भारत-प्रशांत क्षेत्र में चीन की दादागीरी के बीच प्रधानमंत्री मोदी शिखर सम्मेलन से इतर ट्रंप और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबी के साथ त्रिपक्षीय वार्ता भी करेंगे। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से भी उनकी मुलाकात होगी।

अर्जेटीना रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी अपने बयान में कहा, 'पहले की तरह ही, मैं सम्मेलन से इतर दुनिया के अन्य नेताओं के साथ आपसी हितों के मुद्दों पर द्विपक्षीय बातचीत के अवसर को लेकर आशाविंत हूं।' प्रधानमंत्री शिखर सम्मेलन में जन धन योजना, मुद्रा योजना, आयुष्मान भारत और मृदा स्वास्थ्य कार्ड जैसे अपने प्रमुख कार्यक्रमों पर भी बात करेंगे। वह तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव के खतरों से भी दुनिया के अगाह करेंगे।

ट्रंप-पुतिन की नहीं होगी मुलाकात
जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की अब मुलाकात नहीं होगी। यूक्रेन के खिलाफ रूस के आक्रामक रवैये के चलते ट्रंप ने पुतिन के साथ अपनी मुलाकात को रद कर दिया है। गुरुवार को ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि रूस ने यूक्रेन नौसेना के जहाज और उसके कर्मचारियों को नहीं छोड़ा है, जिसकी वजह से वह मुलाकात रद कर रहे हैं।

हालांकि, ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मुलाकात होगी। इन दोनों नेताओं की यह मुलाकात इसलिए अहम है क्योंकि अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार छिड़ा हुआ है। दोनों ही देश एक-दूसरे के कई उत्पादों पर भारी आयात शुल्क लगा चुके हैं।

जी-20 के विरोधी दहशत में 

ब्यूनस आयर्स में एक तरफ जहां जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए दुनिया के प्रमुख नेता एकत्र हुए हैं, वहीं विभिन्न मानवाधिकार संगठनों से जुड़े लोग भी विरोध मार्च करने अर्जेटीना की राजधानी पहुंचे हैं। लेकिन इन लोगों को अब भड़काने वाली कार्रवाई का डर सताने लगा है। संगठन के सदस्यों ने लोगों से बिना किसी भड़कावे के शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन करने की अपील की है। लोगों से उकसावे की कार्रवाई पर भी शांति बनाए रखने को कहा गया है।

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस