कुआलालंपुर, एजेंसी । पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान दो दिन की मलेशिया की यात्रा पर हैं। यहां वह कुआलालंपुर में प्रमुख मुस्लिम राष्ट्रों के सम्मलेन में गैर हाजिर रहने को लेकर वहां के नेतृत्व को समझाएंगे। साथ में खान द्विपक्षीय रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करेंगे और दक्षिण एशिया में हालात को लेकर भी चर्चा करेंगे।

बता दें कि सऊदी अरब के विरोध के कारण इमरान ने अपनी कुआलालंपुर की यात्रा रद कर दी थी। इस सम्मेलन में ईरान, तुर्की, और कतर जैसे मुल्कों के नेताओं ने शिरकत की थी। डॉन अखबार ने खबर दी थी कि खान कथित रूप से सऊदी अरब के दबाव के कारण सम्मेलन में शरीक नहीं हुए थे। सऊदी अरब खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार को आर्थिक संकट से निपटने के लिए आर्थिक मदद करता है।

इस बीच  इमरान कार्यालय ने कहा है कि अपने मलेशियाई समकक्ष महातिर मोहम्मद के निमंत्रण पर मलेशिया की यात्रा पर गए हैं। खान दिसंबर में कुआलालंपुर में हुए 20 मुस्लिम देशों के सम्मेलन में शामिल नहीं हुए थे। पाकिस्‍तान प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया कि खान की यात्रा ऐतिहासिक पाकिस्तान-मलेशिया संबंधों को और मजबूत करने और द्विपक्षीय सहयोग को उच्च स्तर पर ले जाने में योगदान देगी। इमरान की यात्रा का मकसद उन गलतफहमियों को दूर करना माना जा रहा है जो कुआलालंपुर सम्मेलन में शामिल नहीं होने की वजह से उत्पन्न हुई थी । इमरान के दफ्तर ने रविवार को ट्वीट किया था, प्रधानमंत्री मलेशिया की अपनी यात्रा के दौरान, जम्मू कश्मीर में मानव अधिकारों और मानवीय स्थिति का मामला भी उठाएंगे।  

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस