म्यूनिख, एजेंसी। म्यूनिख में 1972 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में फिलिस्तीनी हमलावरों द्वारा मारे गए 11 इजरायली एथलीटों के परिवार जर्मन अधिकारियों द्वारा आयोजित 50 साल की सालगिरह समारोह में शामिल नहीं होंगे। यह कहते हुए कि वे अधिक मुआवजे के पात्र हैं।

ये निर्णय दोनों देशों के बीच संबंध को दिखाता है, जिन्होंने नाजी नरसंहार के बावजूद मजबूत संबंध बनाए हैं, जिसमें द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 60 लाख यहूदियों की हत्या कर दी गई थी।

‘फ़िलिस्तीनी समूह ब्लैक सितंबर’ के सदस्यों ने ओलंपिक गांव में घुस कर इज़राइल की राष्ट्रीय टीम के दो एथलीटों को मार डाला और 5 सितंबर, 1972 को नौ और लोगों को बंधक बना लिया।

जर्मन सेना द्वारा बचाव प्रयास के दौरान सभी 9 बंधकों और एक पश्चिम जर्मन पुलिस अधिकारी की मौत हो गई। वहीं, एथलीटों के रिश्तेदारों ने जर्मनी पर ओलंपिक गांव को सुरक्षित करने में विफल रहने, इजरायल की मदद से इनकार करने और फिर बचाव अभियान को विफल करने का आरोप लगाया।

एथलीट परिवारों के समूह ने बवेरियन अधिकारियों (जो 5 सितंबर को स्मारक कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं) को एक पत्र में लिखा कि, जर्मन सरकार द्वारा और विशेष रूप से बवेरियन अधिकारियों द्वारा दुर्व्यवहार, झूठ, अपमान के पचास साल, वास्तव में हमारे लिए बहुत अधिक हैं।

मारे गए लोगों में तलवारबाजी के कोच आंद्रे स्पिट्जर की विधवा, एन्की स्पिट्जर ने कहा कि परिवारों को आतंकवादी हमलों को नियंत्रित करने वाले अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार मुआवजे की उम्मीद है। उन्होंने कहा, मैं 26 साल की थी जब म्यूनिख में यह घटना हुई थी। मैं अब 76 साल की हूं। 

स्पिट्जर ने कहा, अगर वे प्रस्ताव लेकर यहां नहीं आना चाहते, तो वे अपना समारोह करें, लेकिन हम वहां मौजूद नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि लगभग 200 लोगों का पूरा इजरायल प्रतिनिधिमंडल, जिसमें ओलंपिक एथलीट भी शामिल हैं, वे घर पर रहेंगे। इस पर जर्मन अधिकारियों की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि सभी परिवार उचित मुआवजा चाहते हैं, खासकर उन 14 लोगों के लिए जिन्होंने हमले में अपने माता-पिता को खो दिया।

आंतरिक मंत्रालय के अनुसार, हमले के तुरंत बाद, जर्मनी ने पीड़ितों के रिश्तेदारों को लगभग 4.19 मिलियन (लगभग 2 मिलियन यूरो) का भुगतान किया गया था।

जर्मनी की डीपीए समाचार एजेंसी ने बताया कि 2002 में, मृतकों के रिश्तेदारों को अतिरिक्त 3 मिलियन यूरो मिले थे।

जर्मनी के आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि पिछले महीने वह रिश्तेदारों के साथ बातचीत कर रहा था और परिवारों को और भुगतान की पेशकश करने की योजना बना रहा था।

जर्मन मीडिया का कहना है कि जर्मनी ने परिवारों को 10 मिलियन यूरो की पेशकश की है, जिसमें पहले से किए गए भुगतान भी शामिल होंगे। सरकार ने सार्वजनिक रूप से यह खुलासा नहीं किया है कि उसने कितने पैसे की पेशकश की है।

Edited By: Versha Singh