सिओल/वॉशिंगटन, एजेंसी। उत्तर कोरिया एक बार फिर बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण करने को तैयार है। संभवत: यह लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण होगा। अमेरिकी खुफिया सूत्रों के अनुसार, यह परीक्षण कभी भी हो सकता है। कुछ दिन पहले ही उत्तर कोरिया का दौरा कर लौटे रूसी सांसद ने भी यही दावा किया था।

अमेरिका और दक्षिण कोरिया के नौसेना अभ्यास से पहले कोरियाई प्रायद्वीप का माहौल एक बार फिर से गरमा गया है। माना जा रहा है कि इस युद्धाभ्यास से पूर्व ही उत्तर कोरिया लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण करेगा, जिसकी मारक क्षमता अमेरिका के अलास्का तक हो सकती है। अमेरिका और दक्षिण कोरिया के अगले सप्ताह शुरू होने वाले नौसैनिक अभ्यास का नेतृत्व अमेरिकी विमानवाहक युद्धपोत यूएसएस रोनाल्ड रीगन करेगा।

उत्तर कोरिया मामलों के जानकार प्रोफेसर यांग मू-जिन के मुताबिक, इस नौसैनिक अभ्यास के जवाब में ही उत्तर कोरिया ने बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षण की योजना बनाई है। अमेरिकी खुफिया तंत्र को उपग्रह से प्राप्त हुई तस्वीरों से पता लगा है कि प्योंगयांग के नजदीक उत्तर प्योनगान प्रांत में लॉन्चर में फिट बैलेस्टिक मिसाइलों को हैंगर से बाहर लाया गया है। यह मिसाइल ह्वासोंग--14 अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल हो सकती है, जो अमेरिका के अलास्का तक जा सकती है।

इससे पहले, उत्तर कोरिया ने अगस्त में चार हजार किमी स्थित गुआम तक मार करने वाली बैलेस्टिक मिसाइल ह्वासोंग-12 का परीक्षण किया था। उत्तर कोरिया से वार्ता को तैयार सैन्य कार्रवाई के संबंध में कई तीखे बयान देने के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से कहा है कि उत्तर कोरिया के साथ बातचीत का रास्ता खुला है। ट्रंप ने कहा, 'उत्तर कोरिया पर हम सारे विकल्पों के लिए तैयार हैं। देखते हैं भविष्य में क्या होता है। लेकिन इस समय हम वार्ता के लिए तैयार हैं। जैसा पहले कभी नहीं हुआ, उस स्तर तक बातचीत को ले जाने के लिए संकल्पबद्ध हैं।'

विदेश मंत्री के अपमान पर रिपब्लिकन सांसद ने ट्रंप की खिंचाई की अमेरिकी संसद में सत्तारू दल रिपब्लिकन पार्टी के वरिष्ठ सांसद बॉब कॉर्कर ने विदेश मंत्री को नीचा दिखाने की कोशिश के लिए राष्ट्रपति ट्रंप की निंदा की है। कहा है यह विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के सार्वजनिक तौर पर अपमान सरीखा है। कॉर्कर ने एक साक्षात्कार में कहा था कि ट्रंप ने ट्वीट करके रेक्स को उत्तर कोरिया से वार्ता में समय बर्बाद न करने के लिए कहा था। उस समय रेक्स चीन गए थे। कॉर्कर का कहना है कि जब ट्रंप की अपने कूटनीतिक प्रमुख को पीछे हटने को कहेंगे तो मुद्दे के शांतिपूर्ण हल के रास्ते से खुद ही हटेंगे।

यह भी पढ़ें: कोरियाई प्रायद्वीप में कुछ गलत हुआ तो उसका जिम्मेदार होगा यूएस

Posted By: Pratibha Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस