सियोल (एएनआइ)। अमेरिका से अपने संबंध सुधारने के बाद अब उत्तर कोरिया अब चीन के साथ अपने संबंधों की मजबूती देना चाहता है। उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग उन ने चीन के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने की इच्छा व्यक्त की है। साथ ही, किम ने पिछले सप्ताह सरकार की 70वीं स्थापना वर्षगांठ में भाग लेने के लिए अपने दूत को भेजने के लिए चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग का शुक्रिया भी अदा किया है।

कोरियाई सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) ने योनहाप न्यूज एजेंसी का हवाला देते हुए बताया कि किम ने शी चिनफिंग के संदेश पर गहरा आभार व्यक्त किया और कहा कि उनकी सरकार चीनी नेतृत्व के साथ अपने संबंधों को मजबूत करना चाहती है।

उत्तर कोरिया के नेता ने प्योंगयांग में सैन्य परेड में भाग लेने के लिए शी द्वारा भेजे गए विशेष दूत ली झांशु पर टिप्पणी करते हुए कहा कि देश के नागरिक चीनी लोगों के प्रति अधिक स्नेह महसूस करते हैं। किम ने कहा कि मैं राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ संबंधों व दोस्ती को और विकसित करने के लिए सक्रिय रूप से काम करने और सहयोग के लिए हाथ मिलाऊंगा।' किम ने कहा कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध नए युग के लिए जरूरी है।

ली झांशु ने उत्तर कोरियाई नेता से अलग से मुलाकात की और उन्हें शी चिनफिंग का व्यक्तिगत पत्र भी सौंपा था। चीन सेंट्रल टेलीविजन (सीसीटीवी) के अनुसार, चीनी राष्ट्रपति ने कहा, 'किम के साथ पिछले तीन शिखर सम्मेलनों के माध्यम से चीन और उत्तर कोरिया ने द्विपक्षीय संबंधों के विकास में एक नया अध्याय शुरू किया है। हम उत्तर कोरिया और चीन के बीच संबंध विकसित करना चाहते हैं।'

गौरतलब है कि किम ने इस वर्ष तीन बार चीन का दौरा किया है। वे दो बार बीजिंग गए हैं, जबकि एक बार दलियान का दौरा किया है। वे तीन मौकों पर चीन के राष्ट्रपति से मिले भी हैं। इस दौरान दोनों नेताओं ने कोरियाई प्रायद्वीप के द्विपक्षीय संबंधों और परमाणु निरस्त्रीकरण पर वार्ता भी की।

Posted By: Nancy Bajpai

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप