सियोल,एजेंसी। उत्तर कोरिया जो हमेशा से कोरोना को लेकर सभी को भ्रमित करता रहा है। गुरुवार को उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में जीत की घोषणा की है। तो वहीं  उनकी बहन ने किम जोंग उन को बुखार से पीड़ित बताया है। 

राज्य समाचार एजेंसी केसीएनए के अनुसार, किम ने मई में लगाए गए अधिकतम महामारी-विरोधी उपायों को हटा दिया, यह कहते हुए कि उत्तर कोरिया को 'स्टील जैसी मजबूती के साथ महामारी-विरोधी अवरोध बनाए रखना चाहिए और जब तक वैश्विक स्वास्थ्य संकट समाप्त न हो जाए महामारी-विरोधी कार्य को तेज रखना चाहिए।'

परीक्षण आपूर्ति (testing supplie) की कमी के कारण, उत्तर कोरिया ने कभी पुष्टि नहीं की कि कितने लोग कोरोना से पीड़ित हो चुके हैं। रोजाना 40 लाख से ज्यादा बुखार से पीड़ित मरीज सामने आए, लेकिन 29 जुलाई के बाद से कोई नया मामला सामने नहीं आया है। युवा नेता की बहन किम यो जोंग ने कहा कि उन्हें बुखार के लक्षण थे, जो पहली बार संकेत दे रहे थे कि वह संक्रमित हो सकते हैं।

केसीएनए ने बताया कि किम ने कहा कि उत्तर कोरिया में आधिकारिक तौर पर 74 लोगों की मृत्यु दर अन्य देशों की तुलना में एक 'अभूतपूर्व चमत्कार' है।

किम जोंग की बहन ने बुधवार को देश की महामारी विरोधी प्रतिक्रियाओं की समीक्षा करने के लिए एक बैठक में टिप्पणी में कहा कि 'तेज बुखार से गंभीर रूप से बीमार होने के बावजूद, वह (किम जोंग ) एक पल के लिए भी देश के लोगों के बारे में सोचकर लेट नहीं सकता था, जिनकी उसे अंत तक देखभाल करनी है।

किम की बहन ने किम जोंग के स्वास्थ्य के बारे में कोई विवरण नहीं दिया लेकिन उन्होंने कोरोना प्रकोप के लिए दक्षिण कोरियाई पत्रक (blamed leaflets) को दोषी ठहराया। सियोल के अधिकारियों को 'सफाया' करने की धमकी देते हुए किम की बहन ने कहा, 'हम अब दक्षिण कोरिया से कचरे के प्रवाह को नजरअंदाज नहीं कर सकते।'

दक्षिण कोरिया की योनहाप समाचार एजेंसी ने बताया कि दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्रालय ( Unification Ministry )ने उत्तर कोरिया के इस दावे पर खेद व्यक्त किया कि दलबदलुओं के पत्रों से कोरोना ​​​​का विस्फोट हुआ और प्योंगयांग ने धमकियां दीं। वहीं प्रतिबंध हटाए गए विश्लेषकों का अनुमान है कि उत्तर की जीत की घोषणा सीमा पर लाकडाउन और अन्य प्रतिबंधों से बाधित व्यापार को बहाल करने की शुरुआत का संकेत दे सकती है।

Edited By: Babli Kumari